DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पशु अस्पतालों में अब मिलेंगी 30 से 40 दवाएं

राज्य सरकार पशु अस्पतालों में मिलने वाली दवाइयों की संख्या बढ़ाने जा रही है। अभी पशुपालकों को सरकारी अस्पतालों से मात्र 17 तरह की दवा ही दी जाती हैं। सरकार ऐसी व्यवस्था करने जा रही है कि पशुपालकों को सभी जरूरी दवा उपलब्ध कराई जा सके। हालांकि किन-किन दवाइयों की आपूर्ति सरकारी अस्पतालों से की जाएगी उनकी संख्या तय नहीं की गई है।ड्ढr ड्ढr लेकिन जानकारी के अनुसार यह संख्या 30 से 40 तक हो सकती है। पशुपालन निदेशक डा. एन सरवण कुमार ने बताया कि राज्य में गरीब तबके के ज्यादा लोग पशुपालन से जुड़े हैं। बीमारी के कारण पशुओं की मौत से उनकी कमर टूट जाती है। पैसे के अभाव में वे दवा खरीदने से भी परहेा करते हैं। पशुपालन विभाग इस बात पर विचार कर रहा है कि हर वह दवा पशुपालकों को सरकारी अस्पतालों से उपलब्ध हो जाये जिनके अभाव में पशुओं की मौत होती है। पशुओं में टीकाकरण का अभियान तो पहले से ही चलाया जा रहा है। इसके अलावा पशुओं के पैथोलोजिकल जांच की व्यवस्था भी अनुमंडल स्तर के अस्पतालों में की जा रही है। राज्य में एक सौ पैथोलोजिकल लेबोरटरी की व्यवस्था की जा रही है। श्री कुमार ने बताया कि जून माह तक अनुमंडलीय पशु अस्पतालों में यह व्यवस्था कर दी जायेगी। एक पैथोलोजिकल लेबोरटरी की स्थापना पर सरकार एक लाख रुपये खर्च करगी। राज्य में ऐसा पहली बार किया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पशु अस्पतालों में अब मिलेंगी 30 से 40 दवाएं