DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

28 मई को बंद

एसेंसियल कमोडिटी एक्ट (7 इसी एक्ट) के विरोध में राज्य भर के व्यवसायी 28 मई को झारखंड बंद करेंगे। उसी दिन राजधानी में रैली भी निकाली जायेगी। यह निर्णय रविवार को फेडरशन ने स्थानीय चैंबर भवन में आयोजित राज्य स्तरीय बैठक में लिया। बैठक में सदस्यों ने 7 इसी एक्ट क ो वापस लेने के लिए सीएम मधु कोड़ा को दस दिन का अल्टीमेटम भी दिया है। चैंबर की तरफ से अपनी मांगों के संबंध में सीएम क ो एक ज्ञापन भी सौंपा जायेगा। सरकार द्वारा अगर मांगे नहीं मानी गयीं तो व्यवसायी अनिश्चितकाल के लिए व्यवसाय ठप कर देंगे।ड्ढr चैंबर अध्यक्ष मनोज नरडी ने कहा कि 7 इसी में जो प्रावधान है, उससे राज्य के खाद्यान्न व्यवसायी परशान हैं। कई जिलों में अफसर मनमाने तरीके से छापामारी कर रहे हैं, जिससे में दहशत का माहौल है। राज्य के विभिन्न व्यावसायिक संगठनों के साथ-साथ फेडरशन चैंबर ने भी इसका विरोध किया है और सीएम सहित संबंधित विभाग को ज्ञापन दिया भी गया। परंतु मागों पर विचार नहीं हो रहा। इसी वजह से व्यवसायियों ने आंदोलन का रास्ता अपनाया। रांची चैंबर के अध्यक्ष सतीश तुल्स्यान ने कहा कि सरकार परशानी के सबब बने इस एक्ट को सरकार तुरंत हटाये।ड्ढr जमशेदपुर खाद्यान्न विक्रेता संघ के अध्यक्ष सत्यनारायण लाल अग्रवाल ने कहा कि यहां पर इस प्रावधान की जरूरत ही नहीं है। यहां खाद्यान्नों का उत्पादन नहीं के बराबर है। 0 प्रतिशत बाहर से आता है। इस स्थिति में एक्ट का कोई औचित्य नहीं है।ड्ढr उन्होंने चेतावनी दी कि अगर सरकार मांगो पर विचार नहीं करगी, तो व्यवसायी बाहर से खाद्यान्न मंगाना ही बंद कर देंगे। बोकारो के लोचन सिंह, लोहरदगा के कमल केशरी, खूंटी के ज्योति सिंह, हाारीबाग के शंभू नाथ अग्रवाल सहित राज्य के विभिन्न जिलों से आये सदस्यों ने भी आंदोलन पर सहमति जतायी।ड्ढr डॉक्टर भी आंदोलन की राहड्ढr सरकार से नाराज राज्य के अनुबंधित डॉक्टर 25 मई की आधी रात से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जायेंगे। यह निर्णय राज्य भर के अनुबंधित डॉक्टरों की रविवार को आइएमए भवन में हुई बैठक में लिया गया। इससे पूर्व 21 मई को धिक्कार दिवस के रूप में मनायेंगे। इधर आइएमए ने भी आंदोलन को समर्थन देते हुए 31 मई को पूर राज्य में हड़ताल की घोषणा की है। इस दिन सभी सरकारी-गैर सरकारी, निजी डॉक्टर हड़ताल पर रहेंगे।ड्ढr पुलिस भी पीछे नहींड्ढr झारखंड पुलिस एसोसिएशन ने जूनियर पुलिस ऑफिसरों की लंबित मांगों को लेकर आंदोलन करने की धमकी दी है। रांची में रविवार को आयोजित बैठक में संघ के नेताओं ने कहा कि अगर 21 जून तक उनकी मांगे पूरी नहीं हुइर्ं, तो संघ के सभी सदस्य 22 जून को छह बजे सुबह से 23 जून के छह बजे सुबह तक 24 घंटे का उपवास रखेंगे। इसके बाद 24-26 जून तक विरोधस्वरूप काला बिल्ला लगायेंगे।ड्ढr देखें पेज 5 भी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 28 मई को बंद