अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब एलपीजी की कालाबाजारी का डर

सरकारी कंपनियों के नए एलपीजी कनेक्शन जारी करने पर रोक लगाने की मांग और उसे सिर से खारिा किए जाने के चलते पैदा हुए विवाद में अंतिम वाक्य लिखा जाना बाकी है। अब खबर है कि केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री मुरली देवड़ा आईओसी, बीपीसीएल तथा एचपीसीएल मैनजमेंट से खफा हैं। वे नाराज इसलिए बताए जा रहे हैं कि क्योंकि अब लग यह रहा है कि कुछ एलपीजी गैस एजेंसियों के वितरक एलपीजी सिलेंडरों की कृत्रिम कमी दिखाने की चेष्टा करंगे। माल को दबाकर बैठ जाएंगे और काला बाजारी करंगे। जाहिर है कि इस कारण से जनता को दिक्कत पेश आएगी। तेल मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि तेल कंपनियों ने देशभर के अपने एलपीजी वितरकों क ो अनाधिकृत रूप से बता भी दिया है कि वे अब खुले हाथ से सिलेंडरों की सप्लाई न करं। यह भी कहा जा रहा है कि देवड़ा को अपनी मांग संबंधी पत्र देने के साथ इन तेल कंपनियों ने पत्र को मीडिया में लीक भी करवा दिया। उसके बाद सारा माहौल इस तरह से बनाने की चेष्टा की गई कि मानो सरकार ने उनकी मांग को मान ही लिया हो। चारों तरफ सरकार की निंदा होने लगी। कई सियासी पार्टियों ने भी सरकार के फैसले के खिलाफ आंदोलन करने की धमकी दे डाली।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अब एलपीजी की कालाबाजारी का डर