अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जल्द हो जाएगी बिटिया बड़ी

लड़कियों के बालिग होने की उम्र घटाने की जरूरत है। वे कानून द्वारा तय उम्र के दायर से पहले ही मैच्योर हो जा रही हैं। सामाजिक बदलावों के मद्देनजर दिल्ली की एक अदालत ने लड़कियों के बालिग होने की उम्र पर समाज की नुमाईंदगी करने वाले सांसदों को फिर से विचार करने की सलाह दी है। अदालत का मानना है कि 18 साल तक की लड़कियों को नाबालिग मानने वाले मौजूदा कानून से कई बेगुनाह युवक आरोपी बने हुए हैं। अदालत ने कहा है कि किशोर अवस्था में ही प्यार नामक अहसास होता है, जिस समय कोई प्रेमी अपनी प्रेमिका का बर्थ सार्टिफिकेट नहीं देखता। कानून के जानकारों के अनुसार प्रेमिका के18 साल पूर होने में कुछ महीने या साल भर के फासले के कारण बहुत से युवक अपहरण जसे संगीन अपराध के आरोपी हैं, या सजा काट रहे हैं। राजधानी में बड़ी संख्या में दर्ज होने वाले बलात्कार और अपहरण के मामलों के पीछे की इस कड़वी सच्चाई को कड़कडड़ूमा अदालत के एडिशनल सेशन जज राजेन्द्र कुमार शास्त्री ने अपने एक फैसले में विस्तार से लिखा है। यह फैसला बलात्कार और अपहरण के एक मामले में आरोपी को बरी करते हुए दिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जल्द हो जाएगी बिटिया बड़ी