अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अगले चुनाव में सोनिया होंगी भाजपा का निशाना

अगले सप्ताह देश के चुनावी साल में प्रवेश करने के साथ ही भाजपा ने अपना निशाना तय कर लिया है। विदेशी मूल के मुद्दे के ठुस्स हो जाने के बावजूद भाजपा के रवैये से लग रहा है कि वह आगामी चुनाव में सोनिया को ही अपने निशाने पर रखेगी। यूपीए सरकार के 22 मई को चार साल पूर होने जा रहे हैं। पांचवे साल को चुनावी साल के तौर पर ही जाना जाता है। पार्टी ने सरकारी विज्ञापनों में सोनिया गांधी की तस्वीरों का मुद्दा उठाते हुये कहा है कि यह जनता के पैसे के साथ खुला खिलवाड़ है। सरकारी संसाधनों का दुरूपयोग होने के साथ ही यह अलोकतांत्रिक भी है। पार्टी प्रवक्ता पूर्व केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि श्रीमती गांधी सरकार में ऐसे किसी पद पर आसीन नही हैं कि वह सरकारी विज्ञापनों में स्थान पा सकें। जब तक वह राष्ट्रीय सलाहकार परिषद की अध्यक्ष थीं तब तक कम से कम छोटा मोटा बहाना था। लेकिन लाभ का पद प्रकरण के बाद उनके परिषद से इस्तीफा दिए जाने के बाद यह बहाना भी समाप्त हो गया। अब सरकारी विज्ञापनों में श्रीमती गांधी का उल्लेख संप्रग अध्यक्ष के रूप में किया जाता है जो कोई सरकारी पद नहीं है। पार्टी ने सोनिया गांधी के खिलाफ अपने कड़े तेवर दिखाते हुये कहा है कि यदि ये विज्ञापन नहीं रोके गये तो वह किसी भी स्थिति तक जा सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अगले चुनाव में सोनिया होंगी भाजपा का निशाना