अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जमुई जेल और शस्त्रागार नक्सलियों के निशाने पर

जिले में लगातार कई घटनाओं को अंजाम देने के बाद नक्सलियों के हौसले काफी बुलंद हैं। अब तो सरआम आवाजाही तथा खुलेआम प्रदर्शन भी होने लगे हैं। सूत्रों पर विश्वास करं तो नक्सलियों की बुलंदी कभी भी जमुई जेल, थाना एवं शस्त्रागार पर कहर बन कर टूट सकती है। जमुई जेल में कई हार्डकोर नक्सलियों के बंद रहने से कभी भी इस पर हमला हो सकता है। हैदारबाद से लक्ष्मीपुर गंगटा जंगल में नक्सलियों के प्रवेश करने की भी सूचना है जो किसी भी समय बड़ी घटनाओं को अंजाम दे सकते हैं।ड्ढr ड्ढr बीते 13 अप्रैल की शाम में ही जीआरपी एवं आरपीएफ झाझा पर हमला कर रायफलें व कारतूस लूटने के बाद उनका मनोबल काफी उंचा हो गया है। 10 मई की रात्रि डेढ़ सौ हथियारबंद नक्सलियों के गिरोह ने लक्ष्मीपुर थाना के मटियाबाज में खुलेआम मशाल जुलूस निकालकर पुलिस को भी सकते में भी डाल दिया है। पिछले दिनों पुलिस को सूचना मिली कि हैदराबाद से आये नक्सलियों का एक गिरोह लक्ष्मीपुर-गंगटा जंगल में प्रवेश कर गया है जो किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में है। नक्सली तो नहीं मिले लेकिन चूल्हा, जूठे पत्तल उसकी मौजूदगी का जरूर अहसास करा गये। जीआरपी झाझा थाना ब्रेक कांड में भारी मात्रा में असलहों को लूट लेने आदि को अंजाम देने के बाद नक्सली संगठन का मनोबल काफी ऊंचा हो गया है ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जमुई जेल और शस्त्रागार नक्सलियों के निशाने पर