अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मरीचा मायूस लौटे, नहीं मिली दवा

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव दीपक कुमार ने पीएमसीएच के स्टोर में रविवार को लगी आग के कारणों की जांच रिपोर्ट एक हफ्ते में देने का निर्देश दिया है। प्रधान सचिव ने तीन सदस्यीय समिति को निर्देश दिया है कि वे अपनी रिपोर्ट में आग से हुई क्षति का आंकलन, आग का कारण और इससे बचाव के उपाए के बार में विस्तृत जानकारी दें। समिति द्वारा सुझाए गए उपाय को अन्य अस्पतालों के दवा भंडारों में लागू किया जाएगा।ड्ढr ड्ढr दूसरी ओर सोमवार को पीएमसीएच के ओपीडी के दवा वितरण केन्द्र से मरीाों को मायूस लौटना पड़ा। दवा के लिए लाइन में खड़े मरीा बिना दवा के वापस लौट गए। काउंटर पर बैठे कर्मचारी ने लोगों को बाहर से दवा लेने की सलाह दी।ड्ढr हालांकि अस्पताल प्रशासन का दावा था कि अस्पताल में दवाओं की कमी नहीं है। अस्पताल के अधीक्षक डा. गणेश प्रसाद सिंह ने बताया कि अस्पताल में दो मुख्य भंडार के अलावा अन्य कई छोटे-छोटे गोदाम हैं, जहां दवाओं का भंडारण किया जाता है। इसलिए एक भंडार में आग लगने कस असर दवाओं की आपूर्ति पर नहीं पड़ा है। लेकिन अस्पताल के भर्ती मरीाों की व्यथा दूसरी है। इमरोंसी में भर्ती एक मरीा के परिान दयानंद ने बताया कि कई दवाएं बाहर से लेनी पड़ रही है। उसने कहा कि कुछ दवाएं अस्पताल की ओर से भी दी जा रही है।ड्ढr ड्ढr इस बीच जिस स्टोर में आग लगी थी उसका पिछले एक दशक से दवा भंडार के रूप में इस्तेमाल हो रहा था। इसी भवन के बेसमेंट में बने भंडार में पानी भर जाने के कारण तीसर तल्ले पर इसे शिफ्ट करना पड़ा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मरीचा मायूस लौटे, नहीं मिली दवा