DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बादशाहत के लिए भिड़ेंगे जोकोविच और फेडरर

बादशाहत के लिए भिड़ेंगे जोकोविच और फेडरर

मैराथन मैन के नाम से मशहूर सर्बिया के नोवाक जोकोविच ने जाएंट किलर बुल्गारिया के ग्रिगोर दिमित्रोव की कड़ी चुनौती पर शुक्रवार को 6-4, 3-6, 7-6, 7-6 से काबू पाते हुए विंबलडन टेनिस चैंपियनशिप के पुरुष एकल के खिताबी मुकाबले में जगह बना ली जहां उनके सामने 17 ग्रैंड स्लेम खिताबों के बादशाह स्विटजरलैंड के रोजर फेडरर होंगें।
       
चौथी सीड फेडरर ने दूसरे सेमीफाइनल में एक और युवा तुर्क आठवीं सीड कनाडा के मिलोस राओनिक को लगातार सेटों में 6-4, 6-4, 6-4 से धो दिया। स्विस मास्टर ने यह मुकाबल एक घंटे 41 मिनट में जीता।
       
शीर्ष वरीयता प्राप्त जोकोविच ने चार सेटों तक चला यह मुकाबला तीन घंटे दो मिनट में जीता। वर्ष 2011 में यहां चैंपियन रह चुके जोकोविच ने गत चैंपियन ब्रिटेन के एंडी मरे को टूर्नामेंट से बाहर करने वाले दिमित्रोव को अपनी जबर्दस्त संघर्ष क्षमता के दम पर खिताबी मुकाबले में पहुंचने से रोक दिया।
       
जोकोविच चौथे सेट के टाईब्रेक में 3-6 से पिछड़े हुए थे और उस समय ऐसा लग रहा था कि यह मुकाबला पांचवें सेट तक जाएगा। लेकिन सर्बियाई खिलाड़ी ने लगातार तीन अंक लेकर स्कोर 6-6 से बराबर किया और फिर टाईब्रेक को 9-7 से निपटाकर फाइनल में जगह बना ली।
       
सात बार विंबलडन जीत चुके फेडरर ने ग्रास कोर्ट पर अपनी 'कलास' का नमूना पेश करते हुए सात में से तीन ब्रेक भुनाए, छह एस और 32 विनर्स लगाए। राओनिक को एक ब्रेक अंक मिला जिसे वह भुना नहीं पाए। राओनिक ने हालांकि 17 एस और 36 विनर्स लगाए लेकिन उनके चार डबल फॉल्ट और 17 बेजां भूलें उन्हें भारी पड़ीं।

32 वर्षीय फेडरर इस जीत के साथ नौवीं बार विंबलडन के फाइनल में पहुंच गए और अब वह रिकॉर्ड आठवें खिताब से एक कदम दूर रह गए हैं। फेडरर ने 23 वर्षीय राओनिक पर जीत दर्ज करने के बाद अपनी मुट्ठी जश्न में हवा में लहरा दी।
    
इससे पूर्व पहले सेमीफाइनल में छह बार के ग्रैंड स्लेम चैंपियन जोकोविच ने सेंटर कोर्ट पर अपने शानदार खेल से दिखाया कि क्यों उन्हें मैराथन मैन कहा जाता है और 11वीं सीड दिमित्रोव जैसे युवा तुकरे को अभी उनके स्तर तक पहुंचने के लिए लंबा सफर तय करना पड़ेगा।
       
अपना 23वां ग्रैंड सेमीफाइनल खेल रहे जोकोविच ने 23 वर्षीय दिमित्रोव को बेसलाइन पर अपने बेहतरीन खेल से निर्णायक मौकों पर रोके रखा। हालांकि दोनों खिलाड़ियों को सेंटर कोर्ट की बेसलाइन पर ग्राउंड पर टिके रहने को लेकर काफी संघर्ष करना पड़ा। दोनों खिलाड़ी कई बार फिसले लेकिन दोनों ने ही लाजवाब टेनिस का प्रदर्शन किया।

जोकोविच ने पहला सेट 6-4 से जीता जबकि दिमित्रोव ने दूसरेसेट में शानदार वापसी करते हुए 6-3 से जीत हासिल की। तीसरा सेट टाईब्रेक में खिंचा और इस सेट के टाईब्रेक को जोकोविच ने 7-2 से जीता। यह सेट 52 मिनट तक चला।
       
चौथा सेट सबसे ज्यादा लंबा रहा और 61 मिनट तक चला। इस सेट का टाईब्रेक टॉप सीड खिलाड़ी ने 9-7 से जीता। जोकोविच ने मैच में 17 एस लगाए और सिर्फ दो डबल फॉल्ट किए जबकि दिमित्रोव ने 15 एस तो मारे लेकिन आठ डबल फॉल्ट भी कर बैठे। जोकोविच ने छह में से तीन ब्रेक अंक भुनाए वहीं दिमित्रोव 11 में से तीन ब्रेक अंक भुना पाए।
       
दोनों खिलाड़ियों के विनर्स लगभग एक बराबर रहे। लेकिन बेजाभूलें करने में दिमित्रोव आगे रहे। जोकोविच के रैकेट से 45 विनर्स और 26 बेला भूलें निकली तो दिमित्रोव ने 48 विनर्स लगाने के अलावा 33 बेजा भूलें की। इस हार के साथ किसी ग्रैंड स्लेम के सेमीफाइनल में पहली बार खेल रहे पहले बुल्गारियाई खिलाड़ी दिमित्रोव का फाइनल में पहुंचने का सपना टूट गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बादशाहत के लिए भिड़ेंगे जोकोविच और फेडरर