अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ब्लॉग या जंगी जहाज!

एक महीने के अंदर ही अमिताभ बच्चन ने हमें बताया कि कैसे ब्लॉगिंग दुश्मनों को निपटाने का एक कारगर माध्यम हो सकता है। अपने ब्लॉग पर पहले उन्होंने शत्रुघ्न सिन्हा को हड़काया। केबीसी के आंकड़े देकर शाहरुख को पटखनी दी। फिर जमीन मामले पर सलीम खान को लताड़ा और सिनेमा में सिगरट के प्रतिबंध पर रामदौस की भी खबर ली। मतलब कंटेंट के हिसाब से ये ब्लॉग कम और जंगी जहाज ज्यादा लग रहा था। अमिताभ के ब्लॉग पर शोध जारी ही था कि इस बीच आमिर खान ने अपने ब्लॉग पर डिटेल दी कि उनके कुत्ते का नाम शाहरुख कैसे पड़ा। सुभानअल्लाह! उनके चाहने वाले बाकी सब तो जान ही चुके थे। अपने सत्रह अफेयर और दो शादियों के बार में वो सब जान चुके। यही एक सनसनीखे खबर बाकी रह गई थी और इक सुबह उन्हें लगा चलो अपने फैन्स का ज्ञानवर्धन किया जाए! खर, मुझे आमिर-अमिताभ से कोई शिकायत नहीं है। मेरा तो मानना है कि इसी तर्ज पर तमाम बड़े लोगों को अपने झगड़े निपटाने और सफाई देने के लिए ब्लॉग खोल लेने चाहिए। इसी क्रम में सबसे पहले अजरुन सिंह ब्लॉग बनाएं। नाम रखें- ‘छूटे तीर’ डॉट ब्लॉग स्पाट। पहली पोस्ट में बिना लाग-लपेट माफी मांगे। गांधी-नेहरू परिवार के प्रति वफादारी का ट्रैक रिकॉर्ड बताएं। हो सके तो इस रिकॉर्ड को फिर बजाएं। चापलूसी से जुड़ी महत्वपूर्ण घटनाओं और तिथियों का जिक्र करं। चमचागिरी के चार दशकों के अपने कार्यकाल को ग्राफिक्स के माध्यम से समझाएं और पार्टी से पूछें कि जब चापलूसी ने इतने सालों में मुझे इतना कुछ दिया है तो उम्र के इस पड़ाव पर मैं ट्राइड एंड टेस्टिड फामरूला क्यों त्याग दूं? इसके अलावा सुपरकॉप केपीएस गिल भी झट से ब्लॉग बना लें। अपने चाहने वालों को (ािस किसी भी ग्रह पर वो हों) बताएं कैसे इस जालिम दुनिया ने उनके साथ ज्यादती की। ‘बाकी रह गए’ अपने कामों का जिक्र करं। अपने अलावा उन लोगों के नाम बताएं जिनके चलते भारतीय हॉकी का बेड़ा गर्क हो गया है। उस पर्वत की भौगोलिक स्थिति बताएं जहां से वो भारतीय हॉकी के लिए संजीवनी लाने वाले थे मगर उनकी फ्लाइट कैंसिल करवा दी गई। उस क्षेत्र-विशेष का नाम भी बताएं जहां अब वो अपनी सेवाएं देना चाहते हैं! इनके अलावा ऐसे तमाम बड़े लोग जिन्हें लगता है ब्लॉगिंग बेलगाम अभिव्यक्ित की स्वतंत्रता या रचनात्मकता का माध्यम नहीं, बल्कि पर्सनल स्कोर सैटल करने का जरिया है वो जल्द से जल्द ब्लॉग बना लें। ये मंच उनके चरण कमलों को तरस रहा है! बड़ा स्कोप है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ब्लॉग या जंगी जहाज!