DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पटना रैली के विस्फोटों में थी सिमी सदस्यों की भूमिका

नई दिल्ली वरिष्ठ संवाददाता। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को दिल्ली हाईकोर्ट के समक्ष कहा कि पटना में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रैली में हुए सिलसिलेवार विस्फोटों में प्रतबिंधित सिमी के कुछ सदस्य शामिल थे। रायपुर के शहर पुलिस अधीक्षक राकेश भट्ट ने जस्टिस सुरेश कैथ को बताया कि छत्तीसगढ़ पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए उमर सिद्दकी और अजहरददीन स्टूडेंटस इस्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया (सिमी) के सदस्य हैं और पटना में विस्फोटों के बाद पटना और रांची में अलग अलग जगहों पर छापों के दौरान मिले सबूत इन मामलों में उनकी संलिप्तता दर्शाते हैं।

केन्द्र सरकार ने सिमी पर हाल ही में लगाए गए पांच साल के प्रतबिंध पर मुहर लगाने या उसे खारिज करने के लिए कार्यवाही संचालित करने के लहिाज से गैरकानूनी गतविधिि (रोकथाम) अधिकरण की अगुवाई के लिए जस्टिस कैत को नियुक्त किया था। गृहमंत्रालय ने 6 फरवरी को सिमी पर अगले पांच साल के लिए 1 फरवरी से प्रतबिंध बढ़ा दिया था। मंत्रालय ने कहा कि अगर काबू नहीं किया गया तो संगठन फिर से एकजुट होगा और देश के धर्मनिरपेक्ष तानेबाने को नुकसान पहुंचाएगा।

पुलिस अधिकारी ने यह भी बताया कि सिमी के कुछ सदस्यों ने रायपुर से करीब 100 किलोमीटर दूर बरनावापारा के जंगलों में आतंकवादी संगठन की एक बैठक में भाग लिया था। यहां से सीडी, लैपटॉप तथा एलईटी और हिजबुल मुजाहिदीन की प्रशिक्षण पद्धतियों से जुड़ी अनेक सामग्री जब्त की गई। उन्होंने बताया कि जब्त सामग्री को सीएफएसएल हैदराबाद में फोरेंसिक जांच के लिए भेजा गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पटना रैली के विस्फोटों में थी सिमी सदस्यों की भूमिका