DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मां को बेदखल न करे बेटा: कोर्ट

नई दिल्ली वरिष्ठ संवाददाता। एक मां को अदालत ने बड़ी राहत दी है। अदालत ने इस महिला के बेटे और बहू को निर्देश दिए हैं कि वह इस महिला को घर से बेदखल न करें। अदालत ने कहा है कि वह वृद्ध महिला का ख्याल रखने के लिए कानूनी तौर पर बाध्य हैं। मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट वंदना जैन की अदालत ने कहा कि महिला का आरोप है कि उसके बेटे और बहू ने उसके साथ मारपिटाई की और उसे यातना दी। हालांकि ऐसा कोई साक्ष्य वह पेश नहीं कर पाई।

परन्तु इस शिकायत के आधार पर बेटे द्वारा मां को घर से बेदखल किया जाना उचित नहीं है। लिहाजा अदालत बेटे को आदेश देती है कि वह मां की देखभाल करे। अदालत ने महिला की शिकायत का निपटारा कर दिया है। अदालत ने कहा कि क्योंकि सवाल के दायरे में आई संपत्ति पर बेटा-बहू का कब्जा है इसलिए दोनों प्रतविादियों को कानूनी प्रक्रिया का पालन किए बिना संपत्ति से उन्हें बेदखल करने से रोका जाता है। महिला ने अपनी शिकायत में कहा था कि वह पूर्वी दिल्ली में बिहारी कॉलोनी हाउस में प्रथम तल पर रह रही थी जबकि उसका पुत्र और पुत्रवधू उनके पति द्वारा खरीदे गए मकान के भूतल पर रहते हैं।

महिला ने यह आरोप लगाते हुए अदालत का दरवाजा खटखटाया कि उसने इस आश्वासन पर संपत्ति अपने बेटे के नाम कर दी कि वह समूचे जीवन उनका खयाल रखेगा लेकिन जब मकान बेटे के नाम कर दिया गया तो उनके बेटे और बहू ने उन्हें प्रताडिम्त करना और यातना देना शुरू कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मां को बेदखल न करे बेटा: कोर्ट