DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाटिल बने बंगाल के गवर्नर, गोवा के राज्यपाल का इस्तीफा

बिहार के राज्यपाल डी वाई पाटिल को आज अतिरिक्त प्रभार के रूप में पश्चिम बंगाल के राज्यपाल पद के लिए शपथ दिलायी गयी। इसके पहले पश्चिम बंगाल के राज्यपाल एम के नारायणन ने आज अपना पद छोड़ दिया।
    
पाटिल को कलकत्ता उच्च न्यायालय के वरिष्ठतम न्यायाधीश न्यायमूर्ति ए के बनर्जी ने शपथ दिलायी। इस मौके पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अपने कैबिनेट के वरिष्ठ सहयोगियों के साथ राजभवन में मौजूद थीं। विधानसभाध्यक्ष बिमान बनर्जी, नेता प्रतिपक्ष सूर्यकांत मिश्र और कई अन्य गणमान्य लोग भी इस मौके पर मौजूद थे।
     
संक्षिप्त समारोह के बाद ममता बनर्जी ने नए राज्यपाल को शुभकामनाएं दीं और उन्हें गुलदस्ता भेंट किया। पाटिल और ममता ने करीब आधे घंटे तक बातचीत की। बाद में संवाददाताओं से बातचीत में ममता ने कहा कि मैं उन्हें (पाटिल) लंबे समय से जानती हूं, अच्छा है कि वह आए हैं। स्वागतम।
    
इसके पहले आज ही एम के नारायणन ने पद छोड़ दिया और अपनी पत्नी पदिमनी के साथ चेन्नई रवाना हो गए। नारायणन को कोलकाता पुलिस के माउंटेड पुलिस डिविजन ने गार्ड आफ आनर पेश किया। वह 24 जनवरी 2010 को राज्य के 24वें राज्यपाल बने थे।
    
केंद्र में नयी सरकार बनने के बाद नारायणन के अलावा नगालैंड के राज्यपाल अश्विनी कुमार, उत्तर प्रदेश के राज्यपाल बी एल जोशी और छत्तीसगढ़ के राज्यपाल शेखर दत्त इस्तीफा दे चुके हैं।

इधर पूर्ववती संप्रग सरकार के कार्यकाल में नियुक्त राज्यपालों को बदलने की अपनी योजना पर सरकार के आगे बढ़ने के बीच गोवा के राज्यपाल बी वी वांचू ने आज अपने पद से इस्तीफा दे दिया। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि आज सुबह केंद्रीय गह सचिव अनिल गोस्वामी द्वारा इस्तीफा के लिए कहे जाने के बाद 63 वर्षीय वांचू ने अपना इस्तीफा भेज दिया।
    
स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप के पूर्व प्रमुख वांचू का इस्तीफा मंजूरी के लिए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भेजा जाएगा। 1976 बैच के आईपीएस अधिकारी वांचू के इस्तीफे के कुछ दिन पहले ही पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एम के नारायणन ने पश्चिम बंगाल के राज्यपाल पद से इस्तीफा दे दिया था।
    
अगस्तावेस्टलैंड रिश्वत मामले में सीबीआई ने वांचू और नारायणन से उनके इस्तीफे के ठीक पहले पूछताछ की थी। राजग सरकार के दबाव के बाद उत्तर प्रदेश के राज्यपाल बी एल जोशी, छत्तीसगढ़ के राज्यपाल शेखर दत्त और नगालैंड के राज्यपाल अश्विनी कुमार पहले ही इस्तीफा दे चुके हैं।
    
दो राज्यपाल एच आर भारद्वाज (कर्नाटक) और देवानंद कुंवर पिछले महीने सेवानिवृत्त हो गए। हालांकि पूर्ववर्ती संप्रग सरकार द्वारा नियुक्त कई राज्यपाल अब भी अपने पद पर कायम हैं। उनमें के शंकरनारायणन (महाराष्ट्र), शीला दीक्षित (केरल), जगन्नाथ पहाडिया (हरियाणा), कमला बेनीवाल (गुजरात), शिवराज पाटिल (पंजाब) भी शामिल हैं।
    
सूत्रों ने बताया कि सरकार भाजपा के कुछ वरिष्ठ नेताओं को राज्यपाल नियुक्त करने पर विचार कर रही है। ऐसे जिन नेताओं के नामों की अटकलें हैं उनमें उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह, उत्तर प्रदेश के पूर्व विधानसभाध्यक्ष केसरी नाथ त्रिपाठी, पूर्व केंद्रीय मंत्री राम नाइक, लखनऊ के पूर्व सांसद लालजी टंडन, भोपाल के पूर्व सांसद कैलाश जोशी, केरल के भाजपा नेता ओ राजगोपाल भी शामिल हैं।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पाटिल बने बंगाल के गवर्नर, गोवा के राज्यपाल का इस्तीफा