DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

व्यापमं मामले में कांग्रेस लगा रही है बेबुनियाद आरोप: चौहान

व्यापमं मामले में कांग्रेस लगा रही है बेबुनियाद आरोप: चौहान

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दावा किया है कि व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) घोटाले के मामले में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस सिर्फ इसलिए झूठे आरोप लगा रही है, ताकि उच्च न्यायालय की निगरानी में विशेष कार्य बल (एसटीएफ) द्वारा की जा रही जांच को प्रभावित किया जा सके।
    
कल रात ट्वीट में मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय ने एसटीएफ की जांच को संदेह से परे ठहराया है, क्योंकि इसने सबूतों के आधार पर उच्च पदों पर आसीन आरोपियों के खिलाफ भी कार्रवाई की है और उन्हें गिरफ्तार किया है।
    
चौहान ने कहा, इस वर्ष 16 अप्रैल को उच्च न्यायालय ने इस मामले की जांच को एसटीएफ से केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को सौंपने की याचिकाओं को खारिज करते हुए अपने आदेश में राज्य सरकार द्वारा व्यापमं घोटालों की त्वरित कार्रवाई करने के लिए तारीफ की है।
    
उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में व्यापमं द्वारा मैरिट के आधार पर लाखों नियुक्तियां की गई हैं। जिस क्षण मुझे अनियमितताओं के बारे में पता चला, मैंने दोषियों के खिलाफ मामला दर्ज करने के लिए एसटीएफ द्वारा जांच के आदेश दिए। चौहान ने कहा कि उनकी सरकार द्वारा सभी अधीनस्थ सिविल सेवाओं की परीक्षाओं को निष्पक्षता से कराने के लिए एक केन्द्रीय एजेंसी को सशक्त बनाकर पारदर्शी बनाने के प्रयास किया गया है।
    
उन्होंने आरोप लगाया कि पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकारों द्वारा अपनी मनमानी नीतियों के जरिए कनिष्ठ लोक सेवा आयोग को खत्म करने और पीछे के दरवाजे से प्रवेश दिलाकर तदर्थ नियुक्तियों का भंडाफोड़ हो गया है।

चौहान ने कहा कि राज्य की पूर्व कांग्रेस सरकार द्वारा किए गए अवैध नियुक्तियों के उदाहरण दे दिए गए हैं, जिसमें उन्होंने (कांग्रेस सरकार) दिहाड़ी के मजदूरों और हैंडपंप मैकेनिकों को शिक्षक के पदों पर नियुक्त किया था। चौहान ने बुधवार को विधानसभा में कहा था, यदि विपक्ष द्वारा उनके और उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ लगाए गए आरोप सही साबित हो जाते हैं, तो मैं (चौहान) न केवल राजनीति से इस्तीफा दूंगा, बल्कि सन्यास भी ले लूंगा।
    
मुख्यमंत्री ने कल यह भी कहा था कि सरकारी नौकरियों की नियुक्ति में पूर्ववर्ती कांग्रेस शासनकाल के दस साल के दौरान हुई कथित अनियमितताओं की जांच होगी और विपक्ष द्वारा व्यामपं घोटाले में उनका (चौहान) विकेट लेने के लिए किए गए सभी प्रयास निर्थक साबित होंगे।
    
चौहान ने दिग्विजय सिंह के नेतत्व वाले कांग्रेस शासन के 1993 से 2003 के बीच के कार्यकाल के दौरान सरकारी नियुक्तियों की भर्ती में हुई गड़बडिम्यों की जांच की कल घोषणा करते हुए कहा था, व्यापमं घोटाले के मामले में कांग्रेस मेरा विकेट गिराने की बात कह रही है, लेकिन मैं (चौहान) कोई क्रिकेट का विकेट नहीं, बल्कि अंगद का पांव हूं, जिसे गिराया जाना संभव नहीं है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:व्यापमं मामले में कांग्रेस लगा रही है झूठे आरोप: चौहान