DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बद्रीनाथ हाइवे यात्रियों के लिए खुल गया गुरुवार को

बद्रीनाथ हाइवे यात्रियों के लिए खुल गया गुरुवार को

लामबगड़ में बुधवार को बंद हुआ बद्रीनाथ हाईवे गुरुवार को 24 घंटे बाद दोपहर करीब बारह बजे खुल गया। हाईवे के खुलने के बाद बद्रीनाथ मे फंसे सभी तीर्थ यात्राी जोशीमठ पहुंच गए हैं। करीब 24 घंटे से जोशीमठ, पांडुकेश्वर में रुके तीर्थ यात्राी भी बद्रीनाथ के लिए रवाना हो गए हैं।

लामबगड़ की पहड़ियों में बादल फटने से लामबगड़ बाजार के निकट बहने वाले नाले ने रौद्र रूप धारण कर लिया था। मलबा आने से हाईवे का करीब 30 मीटर हिस्सा बह गया था। बीआरओ के मेजर राहुल श्रीवास्तव ने बताया कि गुरुवार को जैसे ही मौसम खुला बीआरओ ने सुबह साढ़े छह बजे से दो जेसीबी, एक डोजर व 30 मजदूरों समेत टेक्निकल स्टाफ की मदद से हाईवे को खोलने का काम शुरू कर दिया। दोपहर करीब बारह बजे बद्रीनाथ हाईवे को वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दिया गया।

सही मरम्मत में लगेगा समय
मेजर राहुल श्रीवास्तव ने बताया कि हाईवे हालांकि वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दिया गया है, लेकिन सड़क के सुधारीकरण के कार्य में अभी कुछ और दिन लगेंगे। उन्होंने बताया कि सड़क को लेवल देने के बाद सड़क के दोनों किनारों पर जालीदार दीवार लगाने का कार्य प्रारंभ किया जाएगा, जिसमें अभी कुछ और दिन लगेंगे।

फंसे यात्राी रहे बेहाल
सूरत से आयी निधि कहती हैं कि वह अपने पूरे परिवार के साथ कल से लामबगड़ में फंसी रहीं। पूरी रात उन्होंने गाड़ी में सो कर ही काटी। रात अलकनन्दा नदी की आवाज व बगल में बादल फटने से उफना गदेरा डराता रहा। दिल्ली से आये महेश कुमार कहते हैं कि चाहे रास्ता जब खुले पर वे बद्रीनाथ जी के दर्शन कर ही लौटेंगे।

स्थानीय लोग हुए मायूस
स्थानीय निवासी मनीष, नरेश सनवाल, उत्तम मेहता, नवीन चौहान कहते हैं आपदा के बाद बद्रीनाथ आने वाले यात्रियों की संख्या में भारी कमी आयी है। पाण्डुकेश्वर, लामबगड़ घाटी के लोगों का यात्रा सीजन पर आधारित व्यवसाय चौपट हो गया है। यदि इसी प्रकार सड़कें बरसात में बंद होती रहीं तो लोग रोजी-रोटी के के लाले पड़ जाएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बद्रीनाथ हाइवे यात्रियों के लिए खुल गया गुरुवार को