DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरेंडर के बाद जेल गए सरना धर्म गुरु बंधन तिग्गा

रांची। संवाददाता। रंगदारी और चोरी के मामलों में सरना धर्म गुरु बंधन तिग्गा समेत चार आरोपियों ने गुरुवार को अदालत में सरेंडर कर दिया। न्यायिक दंडाधिकारी एसबी शर्मा की अदालत में पेशी के बाद उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। अदालत में बंधन तिग्गा, सोमरा उरांव और सुका उरांव समेत चार ने सरेंडर किया। इस मामले में सात आरोपी हैं। तीन जमानत पर हैं। मांडर थाना कांड संख्या (120/12) में सरना धर्म गुरु बंधन तिग्गा समेत अन्य पर चतरा की जिला परिषद सदस्य शोभा कुजूर ने चोरी का आरोप लगाया है।

इसमें1993 में मुड़मा जतरा स्थल पर दीवार को तोड़ने और दीवार की पुरानी ईंटों की चोरी करने का आरोप है। यह 23 डिसमिल भूमि सूचक के ससुर ने 1993 में मुड़मा के तिवारी परिवार से खरीदा था। इसके खतियान में जतरा बगीचा दर्ज है। मांडर पुलिस के अलावा पुलिस अधिकारियों ने भी सुपरविजन में आरोप को सही पाया था। 1993 में यहां दीवार बनाने का प्रयास किया गया था। आदविासियों के जोरदार विरोध के बाद यूं ही छोड़ दिया गया था।

2012 में मुड़मा जतरा से पहले दीवार की ईंटों को उखाड़ लिया गया था और जतरा के दौरान कई दुकानें भी लगी थीं। मांडर थाना कांड संख्या (07/13) में सुरसा गांव की 76 वर्षीया जाखो उराइन ने मुड़मा जतरा स्थल के समीप स्थित 73 डिसमिल जमीन को लेकर रंगदारी मांगने का मामला दर्ज कराया था। प्राथमिकी के अनुसार बंधन तिग्गा ने अपने समर्थकों के साथ यहां हो रहे निर्माण को ढाह दिया और घर बनाने के एवज में पांच लाख रंगदारी मांगी।

इसे भी जांच में सही पाया गया है। लोकसभा चुनाव से पूर्व भी बंधन तिग्गा के खिलाफ हत्या का षडयंत्र करने का मामला मांडर थाना में दर्ज कराया गया था। चुनाव के कुछ दिन पहले इन्हें जेल भी भेजा गया था। इस मामले में अदालत ने इन्हें बरी कर दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सरेंडर के बाद जेल गए सरना धर्म गुरु बंधन तिग्गा