DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

परिषद में गूंजी टेम्पो चालकों की मनमानी

पटना। हिन्दुस्तान ब्यूरो। पटना में टेंपो चालकों की मनमानी का मामला विधान परिषद में जमकर गूंजा। परिषद सदस्य केदार पांडेय के इससे जुड़े् सवाल का जवाब दे रहे मंत्री विजय कुमार चौधरी को जबर्दस्त टोकाटोकी का सामना करना पड़ा। कई सदस्यों ने आरोप लगाया कि चूंकि मंत्री सायरन वाली गाड़ी से निकल जाते हैं, इसलिए उन्हें आमजन की परेशानी नहीं दिखती है। सीपीआई के केदार पांडेय के तारांकित प्रश्न के जवाब में मंत्री श्री चौधरी ने कहा कि दफ्तर आने व जाने के समय के अलावा मुख्य ट्रेनों के पटना जंक्शन आने पर यातायात का दबाव बढ़ जाता है।

जाम से निजात दिलाने के लिए इस समय अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती की जाती है। साथ ही जो ऑटो चालक ट्रैफिक नियम का पालन नहीं करते हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाती है। सरकार के उत्तर से असंतुष्ट भाजपा की किरण घई, प्रो. नवल किशोर यादव और संजय मयूख ने आरोप लगाया कि मौके पर तैनात पुलिस केवल पैसा उगाही में लगी रहती है। जाम से उसे कुछ लेना देना नहीं रहता है। टेम्पो चालकों के कारण ट्रैफिक अस्त व्यस्त हो जाता है।

प्रश्नकर्ता श्री पांडेय ने कहा कि ऑटो चालकों पर सरकार का कोई नियम लागू नहीं होता है। गांधी मैदान, पटना जंक्शन, आर. ब्लॉक, मीठापुर गोलम्बर, बोरिंग रोड और नाला रोड में तो इनके कारण हमेशा जाम की स्थिति बनी रहती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:परिषद में गूंजी टेम्पो चालकों की मनमानी