DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आतंकी कब्जे में भारतीय नर्सें

इराक के तिकरित शहर में फंसी 46 भारतीय नर्सों की मुसीबत और बढ़ गई है। तिकरित स्थित एक अस्पताल के बेसमेंट में शरण लिए इन नर्सों को गुरुवार सुबह आईएसआईएस आतंकियों ने अपने कब्जे में ले लिया। इन्हें लेकर जाते समय उनकी बस के बाहर एक धमाका हुआ। इसमें पांच नर्सें घायल हो गईं।

जबरन साथ ले गए: मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, आतंकी नर्सों को मोसुल ले जाना चाहते थे, जिसके लिए नर्सें तैयार नहीं हुईं। ऐसे में आतंकी उन्हें जबरन अपने साथ ले गए। इस बीच भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि यह बात सही है कि नर्सें अपनी मर्जी से इन आतंकियों के साथ नहीं गईं, वे मजबूर थीं। मगर वे सभी सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा कि नर्सों को दूसरी जगह ले जाए जाने के दौरान भी विदेश मंत्रालय उनके संपर्क में रहा। बकौल अकबरुद्दीन दूतावास ने नर्सों को सलाह दी है कि उन्हें जहां ले जाया जा रहा है, वे वहां चली जाएं।

सुरक्षा कारणों से योजना सार्वजनिक नहीं की: नर्सों को कैसे सुरक्षित निकाला जाएगा, इस सवाल पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि वह इससे जुड़ी योजना को सुरक्षा कारणों के चलते सार्वजनिक नहीं कर सकते। मगर बता दें कि जगह बदलने के बाद भी हम नर्सों के संपर्क में हैं। अकबरुद्दीन ने कहा कि भारतीयों को सुरक्षा मुहैया कराने के प्रयास में भारत अकेला नहीं है । इराक के भीतर और बाहर उसके सहयोगी मदद कर रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आतंकी कब्जे में भारतीय नर्सें