DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुनंदा पोस्टमार्टम रिपोर्ट: अपने बयान पर कायम हैं गुप्ता

सुनंदा पोस्टमार्टम रिपोर्ट: अपने बयान पर कायम हैं गुप्ता

एम्स के फोरेंसिक विभाग के प्रमुख आज अपने उस विवादित बयान पर कायम रहे, जिसमें उन्होंने कहा था कि शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में छेड़छाड़ के लिए उनपर दबाव डाला गया था।
     
प्रमुख स्वास्थ्य संस्थान एम्स द्वारा इस दावे को खारिज किए जाने के एक दिन बाद डॉक्टर सुधीर गुप्ता ने कहा, मैंने जो कहा, मैं उस पर कायम हूं। जब एम्स द्वारा उनके बयान को खारिज करने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, वे कैसे जानते हैं कि मुझपर कोई दबाव नहीं था, वे इस बात को स्पष्ट करने वाले कौन होते हैं कि मुझपर कोई दबाव नहीं था। संवाददाता सम्मेलन बुलाने की जल्दी क्या थी।
     
गुप्ता ने बताया कि सिर्फ सुनंदा पुष्कर के पोस्टमार्टम में ही नहीं, बल्कि बहुत से अन्य मामलों में मैंने चिकित्सा के सिद्धांतों और अभ्यास एवं इसके नैतिक मूल्यों और कानूनी प्रावधानों के अनुसार पोस्टमार्टम रिपोर्टों को अंतिम रूप दिया। मैं कभी भी जीवन में दबाव के आगे झुका नहीं। उन्होंने कहा कि उनकी सभी रिपोर्टें वास्तविक थीं।
     
इस साल जनवरी में होटल में संदिग्ध परिस्थितियों में मत पाई गई सुनंदा पुष्कर के शव का पोस्टमार्टम करने वाले तीन सदस्यीय दल के प्रमुख गुप्ता के आरोप को खारिज करते हुए एम्स ने कहा था कि इस बात का कोई भी सबूत नहीं है कि शव परीक्षण रिपोर्ट को बदलने के लिए उनपर (सुधीर गुप्ता पर) कोई बाहरी दबाव था।

52 वर्षीय सुनंदा 17 जनवरी की रात को दक्षिण दिल्ली के एक पांच सितारा होटल में मृत पाई गई थीं। इससे पहले थरूर के साथ पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार के कथित संबंधों के चलते उनकी तरार के साथ ट्विटर पर तकरार हुई थी।
     
शव परीक्षण की रिपोर्ट में सुनंदा के दोनों हाथों पर एक दर्जन से भी ज्यादा चोट के निशानों और गाल पर रगड़ की बात कही गई थी, जो किसी भोथरी वस्तु के उपयोग की ओर इशारा करती है। इसके अलावा उनकी बाईं हथेली पर दांत से काटने का गहरा निशान था। एम्स में शव परीक्षण के बाद उनके विसरा नमूनों को सुरक्षित रख लिया गया था और इन्हें आगे के परीक्षण के लिए सीएफएसएल के पास भेज दिया गया था।
     
पुलिस के अनुसार, सीएफएसएल रिपोर्ट में दवा विषाक्तता (ड्रग पॉयजनिंग) के संकेत दिए गए थे, लेकिन ये नतीजे उतने निर्णायक नहीं थे कि इस मामले में प्राथमिकी दर्ज की जा सके।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सुनंदा पोस्टमार्टम रिपोर्ट: अपने बयान पर कायम हैं गुप्ता