DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यह कोई निजी मामला नहीं : प्रीति

यह कोई निजी मामला नहीं : प्रीति

अपने बिजनेस पार्टनर व एक्स ब्वॉयफ्रेंड नेस वाडिया के साथ चल रहे विवाद को लेकर अभिनेत्री प्रीति जिंटा ने बुधवार को  फेसबुक पर अपने दर्द की कहानी बयां की है। प्रीति ने इस मामले में कभी अपना जवाब मीडिया में आकर नहीं दिया हैं। अपनी बात हमेशा उन्होंने  सोशल नेटवर्किंग साईट फेसबुक या ट्विटर के जरिये ही कही है।

इस बार प्रीति ने फेसबुक पर लिखा:

'कभी-कभी जिंदगी में ऐसे हालात सामने आते हैं कि आपको हर रास्ते में मुश्किलें ही मिलती हैं। पिछले कुछ दिनों से मैं भावनाओं का उतार चढ़ाव महसूस कर रही हूं। इस हालात में कुछ लोगों, दोस्तों और मीडिया की प्रतिक्रियाएं देखकर हैरान हूं। अफसोस है कि भारत में महिला और पुरुष की बराबरी की बात दूर की है बल्कि लोगों की चिंता इस बात की होती है कि लोग क्या कहेंगे, भले ही हकीकत और तथ्य कुछ और कह रहे हैं।'

मैं उन लोगों की सराहना करती हूं जो मेरे साथ खड़े हैं, लेकिन साथ ही ये भी मानना पड़ेगा कि कुछ लोगों की प्रतिक्रिया देखकर मैं हैरान हूं। मैंने जो एफआईआर दर्ज करवाई है उसमें सारी बातें साफ हैं, इसके बावजूद इसकी व्याख्या कमाल की है, और इसे लेकर अटकलें लगाई जा रही है कि मैंने ऐसा क्यों किया, मैंने क्या कर दिया या ऐसा करने के पीछे मेरा मकसद क्या था वगैरह...वगैरह। इसलिए मेरी कोशिश है कि मैं तथ्यों को सीधे तौर पर आपके सामने रखूं।

मैं एक निजी मामले को पुलिस में लेकर क्यों गई? निजी मामला...सच में। मैं ये बता दूं कि हमारा रिश्ता 2009 में ही खत्म हो गया था और तब जो कुछ हुआ उसे लेकर मैं कभी पुलिस में नहीं गई। लेकिन अब हमें अलग हुए 6 साल हो चुके हैं इसलिए अब यह एक निजी मामला नहीं रहा।

क्या मैंने ये पैसे के लिए किया? आईपीएल शुरू से ही मेरा प्रोजेक्ट है और ये बता दूं कि आईपीएल नीलामी के दौरान न सिर्फ मैंने अपने हिस्से का पैसा 5 करोड़ लगाया बल्कि नेस के लिए भी लगाया! 5 करोड़! बीसीसीआई के पास मेरा फाइनेंशियल कमिटमेंट प्रूफ के तौर पर है। ईमानदारी से कहूं तो उसने दो महीने बाद मेरे पैसे लौटा दिए थे बिना किसी प्रीमियम के। इसलिए पैसे वाली थ्योरी को खत्म कीजिए।

प्रीति ने आगे लिखा, मैंने कभी भी किसी से कोई चीज नहीं ली, क्योंकि मैं जो हूं अपने बूते पर हूं और दूसरों की दौलत से प्रभावित नहीं होती, इस बात का मुझे गर्व है। इसके अलावा मैंने अपनी क्षमता के मुताबिक उसकी मदद ही की है। मैंने गो एयर का विज्ञापन मुफ्त में किया था और टीवी शो कौन बनेगा करोड़पति में मैंने जो रकम जीती थी, वह राशि मैंने वाडिया चिल्ड्रेन हॉस्पिटल को दान कर दी थी। अगर दौलत मेरी जिंदगी का मकसद होती तो मैं स्वर्गीय शानदार अमरोही की वसीयत को क्यों ठुकराती, वो मुझे अपनी बेटी जैसा मानते थे। उनकी दौलत करोड़ों में थी।

क्या यह सब पब्लिसिटी के लिए किया था? कोई भी ऐसी घटिया पब्लिसिटी नहीं चाहेगा, क्योंकि ये गर्व से ज्यादा तकलीफ देने वाली बात है। खासकर उनके लिए जो स्वाभिमानी हैं। मैं इस फिल्म इंडस्ट्री में 1998 से हूं, और कई ब्लॉकबस्टर फिल्में की हैं। बेस्ट एक्ट्रेस से लेकर बहादुरी तक का सम्मान हासिल किया है। इसलिए जरा रुकिए, मुझे लोकप्रियता की, खासकर सस्ती लोकप्रियता की चाह नहीं है।

मैं अमेरिका क्यूं गई? मैं काम के सिलसिले में अमेरिका गई थी, जो पहले से तय था। मैं एक पेशेवर इंसान हूं और काम को बीच में नहीं छोड़ सकती। जितनी जल्दी हो सका मैं भारत लौट आई, क्योंकि पुलिस को आगे की जांच के लिए मेरी जरूरत थी।

सीटों के लिए लड़ाई: रियली! वहां 50 सीटें और एक वीआईपी एयर कंडीशन बॉक्स (35 सीटों वाला) था। इसके बावजूद मेरा और मेरे दोस्तों का 6 सीटों पर बैठना कोई मुद्दे का विषय हो सकता है, पूरे आईपीएल के दौरान मैंने अपनी ज्यादातर सीटें खिलाड़ियों के परिवार को दे दी, इसलिए सीटों को लेकर झगड़े की बात बिल्कुल गलत है। और किसी की मां की तौहीन करने का तो सवाल ही नहीं उठता, क्योंकि मैं अपना नाम भूल सकती हूंए लेकिन अपने संस्कार नहीं।

मैंने एफआईआर दर्ज क्यों कराई? क्योंकि पिछले कई सालों में कई बार चेतावनी देने के बाद मेरे पास कोई दूसरा विकल्प नहीं था। इसमें अहम बात यह है कि शारीरिक हिंसा और आक्रामक रवैया किसी को भी बर्दाश्त नहीं करना चाहिए, चाहे वो अमीर हो या गरीब, आदमी हो या औरत, सेलेब्रेटी हो या नहीं।

ईर्ष्या: जिंदगी आगे बढ़ने का नाम है, लोग आगे बढ़ते हैं और मैंने भी यही किया। मैं इस बात में यकीन रखती हूं कि गाड़ी में आगे देखने के लिए शीशा बड़ा होता है और पीछे देखने के लिए छोटा।

गर्व : गर्व, कद, वर्ग और लिंग की असमानता के खिलाफ लड़ना सही है। कुछ चीजें ऐसी होती हैं जिसे खरीदा नहीं जा सकता और ये चीजें आपको भीड़ में आपका सिर ऊंचा रखती हैं। खुद के लिए लड़ो अगर आप खुद के लिए नहीं लड़ सकते तो ये उम्मीद ना रखिए कि दुनिया आपके लिए खड़ी होगी। मुझसे बेहतर ये बात कोई नहीं जानता।

महिला शक्ति: काश एक मां अपने बेटे को उस वक्त रोक लेती, जब उसने देखा कि उसका बेटा क्या बन रहा है। काश एक पत्रकार ने यह नहीं कहा होता कि एक महिला ऐसे मुद्दे पर हल्ला मचा रही है जहां न रेप हुआ न मर्डर। काश कोई गर्लफ्रेंड उसी वक्त अपने ब्वॉयफ्रेंड से अलग हो जाती है जब उसे पहली बार अपमानित किया गया। काश कोई महिला मतदाता उसी दिन उस नेता को खारिज कर देती, जब उसने महिलाओं को लेकर असंवेदनशील बयान दिया और वो ये तय कर लेती कि वो दोबारा चुनकर ना आ पाए। काश कोई महिला इस मामले की गंभीरता को ये कहकर हल्का नहीं करती कि यह जलन का मामला है। काश कोई रिपोर्टर उस महिला के चरित्र को नीचा दिखाने वाला लेख ना लिखता, जिसने गलत के खिलाफ खड़े होने का साहस दिखाया। ...काश!...

पुलिस की जांच जारी है। मैं विनम्र निवेदन करती हूं कि लोग थोड़ा धैर्य रखें और सभी तथ्यों को सामने आने दें। ये कोई हल्की या आधारहीन शिकायत नहीं है। मैंने कभी झूठ नहीं बोला, अपनी सुविधा के मुताबिक मैं झूठ नहीं बोलती। मैं इस देश की जिम्मेदार नागरिक हूं और मेरी गलती ये है कि मैं एक महिला हूं जो लगातार उस इंसान से प्रताडित होती रही जो कभी उसका बेहद करीबी थी।

महिला के खिलाफ हिंसा गलत है, इसके बावजूद जब कोई महिला गलत के खिलाफ आवाज उठाती है तो उल्टे लोग उस पर उंगली उठाते हैं। मेरा एक मात्र मकसद अपने स्वाभिमान के लिए लड़ना है और यह लड़ाई किसी परिवार के खिलाफ नहीं है बल्कि एक शख्स के खिलाफ है। अगर मीडिया मेरी शिकायत को बड़ा मुद्दा बना देता है तो मैं क्या कर सकती हूं। क्या मैंने प्रेस कॉन्फ्रेंस की? नहीं मैंने ऐसा नहीं किया। दरअसल मैं मीडिया और लोगों से अपनी निजता के सम्मान की उम्मीद करती हूं।

मैंने पहले भी कहा है, मेरा मकसद किसी को नुकसान पहुंचाना नहीं बल्कि अपनी रक्षा करना है। मैं हर उस शख्स का सम्मान करती हूं, जिसमें उस महिला का साथ देने का साहस है, जो मेरे जैसे हालात से गुजर रही है। ऐसे व्यक्ति हमेशा हमारे हीरो रहेंगे।

प्रीति जिंटा की इस फेसबुक पोस्ट को गुरुवार सुबह तक 1,200 शेयर मिल चुके हैं जबकि 10,000 से अधिक लोगों ने इसे लाइक और 1700 लोगों ने इस पर कमेंट किया है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:यह कोई निजी मामला नहीं : प्रीति