DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाजपा की निगरानी से प्रभावित नहीं होंगे संबंध: अमेरिका

 भाजपा की निगरानी से प्रभावित नहीं होंगे संबंध: अमेरिका

अमेरिका ने उम्मीद जताई है कि उसकी राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनएसए) द्वारा भाजपा की निगरानी किए जाने के खुलासे के बाद दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ेगा। एनएसए द्वारा भाजपा की निगरानी किए जाने के खुलासे के बाद नई दिल्ली ने कड़ी आपत्ति जताई है।
   
विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता जेन साकी ने बुधवार को यहां संवाददाताओं से कहा कि उन्हें उम्मीद है कि दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों पर प्रभाव नहीं पड़ेगा। संवाददाताओं ने एनएसए द्वारा भाजपा की निगरानी किए जाने के खुलासे के बाद भारत की कड़ी प्रतिक्रिया को लेकर सवाल पूछे थे।
   
इस सप्ताह के शुरू में वॉशिंगटन पोस्ट द्वारा सार्वजनिक किए गए दस्तावेज में कहा गया था कि एनएसए ने जिन संगठनों की निगरानी के लिए अनुमति मांगी थी उनमे विदेशी राजनीतिक दलों की सूची में भाजपा का नाम था। भाजपा के अलावा सूची में लेबनान का दल अमाल, वेनेजुएला का बोलीवैरियन कॉन्टीनेन्टल को-ऑर्डिनेटर, मिस्र के मुस्लिम ब्रदरहुड और ईजिप्शियन नेशनल साल्वेशन फ्रंट तथा पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी भी शामिल थे।

जेन साकी ने कहा हम द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर व्यापक चर्चा जारी रखने के लिए आशान्वित हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संभवत: सितंबर में अमेरिका के दौरे पर आएंगे। इस बारे में साकी ने कहा कि मोदी को आमंत्रित किया गया है और हम संबंध में बेहद उत्सुक हैं।
   
उन्होंने कहा कि इस सिलसिले में अमेरिकी राजनयिकों ने भारतीय अधिकारियों से मुलाकात की है। उन्होंने कहा मैं पुष्टि कर सकती हूं कि हमारे दूतावास के राजनयिकों ने उनके विदेश मंत्रालय में अपने समकक्षों से इस मुद्दे पर मिल कर बात की है।
   
भारत का सीधा संदर्भ दिए बिना प्रवक्ता ने कहा कि अमेरिका इस मुद्दे पर दोनों देशों के बीच विश्वास बढ़ाने के लिए भारत सरकार के साथ बातचीत कर रहा है।
   
साकी ने कहा जैसा कि आप जानते हैं कि 17 जनवरी के बाद से (अमेरिकी) राष्ट्रपति स्पष्ट करते रहे हैं कि उन्होंने अपने राष्ट्रीय सुरक्षा दल को तथा खुफिया समुदाय को अपने विदेशी समकक्षों के साथ सहयोग तथा समन्वय उस तरह गहरा करने के लिए काम करने को कहा है जिससे उनके बीच विश्वास और अधिक गहरा हो।

विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ने इस बारे में कुछ नहीं कहा कि क्या भाजपा को उन वैश्विक राजनीतिक संगठनों की सूची से हटा दिया गया है जिनकी एनएसए जासूसी कर रही है या क्या अमेरिका ने मोदी सरकार को भविष्य में ऐसा न करने का कोई आश्वासन दिया है।
   
साकी ने कहा कि उनके पास ऐसा कुछ नहीं है जो वह बता सकें सिवाय इसके, कि भारत के साथ हमारी गहरी और व्यापक साझेदारी है। हम ऐसी किसी भी चिंता पर विचारविमर्श करेंगे जिस पर हमें हमारे निजी राजनयिक चैनलों के जरिये चर्चा करने की जरूरत हो।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भाजपा की निगरानी से प्रभावित नहीं होंगे संबंध: अमेरिका