DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महिला उत्पीड़न पर अंकुश के लिए हुआ मंथन

सिद्धार्थनगर। निज संवाददाता। उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग के निर्देश पर बुधवार को महिला उत्पीड़न के मामलों पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से मंथन किया गया है। इस दौरान पुलिस अधिकारियों के साथ राज्य महिला आयोग की सदस्य मौजूद रहीं।

उन्होंने लिंबत मामलों का शीघ्र निस्तारण कराने को कहा है। राज्य महिला आयोग सदस्य जुबैदा चौधरी की अध्यक्षता में हुए समीक्षा में महिला थाना के लिंबत मामलों की जन सुनवाई भी की गई है। इस जन सुनवाई में क्षेत्रिधकारी बांसी रचना मिश्रा भी मौजूद रहीं।

वर्ष 2014 के जनवरी माह से जूनक के मामलों पर समीक्षा की गई। इसमें कुल 238 मामले प्रस्तुत हुए। इसमें महिला थाना द्वारा 163 प्रकरणों का निस्तारण कर दिया गया है। इसमें 73 का सुलह समझौते के आधार पर निस्तारण कर दिया गया है।

तीन मामलों में मुकदमा पंजीकृत कराया गया है। इसके अलावा शेष बचे 73 मामलों में राज्य महिला आयोग की सदस्या ने प्राथिमकता के आधार पर निस्तारण कराए जाने का निर्देश पुलिस अधिकारियों को दिया है।

बुधवार को सुनवाई के दौरान आधा दर्जन प्रार्थना पत्र प्रस्तुत हुए। इसमें चार पुलिस अधीक्षक दो मुख्य चिकित्साधिकारी व एक को सुलह समझौता के आधार पर निस्तारित कराने का निर्देश दिया गया है।

इस दौरान तहसीलदार नौगढ़ गुरुशरण दास,जिंला कार्यक्रम अधिकारी, प्रभारीजिंला प्रोबेशन अधिकारी मीनू सिंह, महिला थाना के प्रभारी अली हमजा सिद्दीकी के साथ अन्य लोग उपस्थित रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महिला उत्पीड़न पर अंकुश के लिए हुआ मंथन