DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार-झारखंड में सिंचाई परियोजनाओं पर सहमति बनी

रांची। हिन्दुस्तान ब्यूरो। सिंचाई परियोजनाओं के निर्माण एवं उनके कार्यान्वयन पर बिहार एवं झारखंड के विभागीय सचिवों की बैठक पटना में हुई। झारखंड की ओर से जल संसाधन सचवि अविनाश कुमार और अभियंता प्रमुख अरविंद कुमार सिंह बैठक में शामिल हुए। बैठक में सिंचाई परियोजनाओं के शीघ्र निर्माण और उसके कार्यान्वयन पर सहमति बनी। पलामू अंचल के उत्तर कोयल से संबंधित बटाने और बचरे नहर योजना पर बिहार 90 प्रतिशत राशि खर्च करने के लिए तैयार हो गया है।

इससे विशेषकर बिहार का औरंगाबाद जिला लाभाविंत होगा। बटाने और बचरे नहर का शीर्षकार्य झारखंड में है लेकिन पानी बिहार को मिलता है। उत्तर कोयल नदी से अधिक सिंचाई का लाभ बिहार को मिलेगा। इसके अलावा देवघर अंचल से संबंधित बटेश्वर स्थान और पुनासी जलाशय एवं नहर योजना पर बिहार 60 प्रतशि राशि खर्च करेगा।

इसके अलावा हजारीबाग अंचल से संबंधित अपर सकरी, महाने, तिलैया ढाढर और धनारजय नहर योजना से बिहार के नवादा जिला को सिंचाई सुविधा मिलेगी। अलग राज्य बनने के बाद से दोनों राज्यों के बीच पानी के बंटवारे एवं खर्च की राशि के अनुपात को लेकर विवाद चल रहा था।

केंद्रीय जल संसाधन विभाग के निर्देश पर दोनों राज्यों के सचवि स्तर की बैठक हुई जिसमें बंटवारे और खर्च पर सहमति बनी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिहार-झारखंड में सिंचाई परियोजनाओं पर सहमति बनी