DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लखनऊ और कांठ प्रकरण पर गरजे भाजपाई

बिजनौर कार्यालय संवाददाता। लखनऊ में भाजयुमो कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज और कांठ प्रकरण को लेकर जिले के भाजपाइयों ने जनपद मुख्यालय पर जबरदस्त प्रदर्शन किया। प्रदेश सरकार पर हर मोर्चे पर विफल रहने का आरोप लगाते हुए राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन अफसरों को सौंपा। बुधवार को पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार जिला भाजपा के कार्यकर्ता नगरपालिका चौक पर इकट्ठा हुए।

यहां से जुलूस की शक्ल में नारेबाजी करते हुए कलक्ट्रेट पहुंचे। कलक्ट्रेट में पहुंचकर जुलूस धरने में तब्दील हो गया। वक्ताओं ने प्रदेश में अराजकता बढ़ने का आरोप लगाया। प्रदेश उपाध्यक्ष अशोक कटारिया ने कहा कि 30 जून को लखनऊ में भाजयुमो कार्यकर्ता विधानभवन पर शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे थे। इस दौरान पुलिस ने कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज कर दिया। आंसू गैस और पानी की बौछार की गई। सैकड़ो कार्यकर्ता घायल हो गए, पुलिस ने कई वाहन तोड़ डाले। उन्होंने इसके लिए राज्य सरकार को दोषी ठहराया।

जिला अध्यक्ष सुमन त्यागी ने कांठ प्रकरण पर कहा कि पुलिस ने जबरदस्ती लाउडस्पीकर उतार लिया। एकतरफा कार्रवाई की। सरकार के इशारे पर पूजा कर रहे लोगों पर मुकदमे दर्ज कर लिए गए। जिला महासचवि सुभाष वाल्मीकि ने जिले में बिजली कटौती को लेकर प्रदेश सरकार को घेरा। उन्होंने कहा कि बिजली किल्लत के चलते छोटे और मझोले उद्योग बंद हो चुके हैं। अब रमजान के दिनों में जो नया शेडय़ूल लागू किया गया है, उससे सहूलियत की जगह दिक्कतें ज्यादा हो रही हैं।

धरने को डॉ. बीरबल, विकास अग्रवाल, डॉ. एनपी सिंह, महिपाल सिंह आदि ने संबोधित किया। बाद में तीन सूत्रीय ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा गया। इसमें प्रदेश सरकार को हर मोर्चे पर विफल रहने का आरोप लगाते हुए राज्यपाल से प्रदेश सरकार को बर्खास्त करने की सिफारशि केंद्र सरकार से करने की मांग की गई। इसके अलावा लखनऊ और कांठ प्रकरण में दोषी अफसरों के खिलाफ कार्रवाई करने और उनके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करने की मांग भी की गई। निदोर्ष लोगों पर दर्ज मुकदमे वापस लेने की मांग भी की गई।

इस दौरान पंपेश राजपूत, नीरज शर्मा, नीरज वशि्नोई, जितेंद्र राणा, मानव सचदेवा, मोनू गर्ग, डॉ. मधु सिंह, अमित कौशिक, धीर सिंह आदि मौजूद रहे। छावनी में तब्दील किया कलक्ट्रेटभाजपा के प्रदर्शन के मद्देनजर जिला प्रशासन ने कलक्ट्रेट को छावनी में तब्दील कर दिया था। मुख्यालय के अलावा कई थानों की पुलिस के अलावा एएसपी सिटी और सीओ सिटी खुद मौके पर रहकर नजर रखे हुए थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लखनऊ और कांठ प्रकरण पर गरजे भाजपाई