DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महिला आयोग की सदस्यों ने जाना पीड़िताओं का दर्द

मैनपुरी, हिन्दुस्तान संवाद। बुधवार को महिला आयोग की सदस्य अर्चना राठौर, रीता गुप्ता तथा सुमन दिवाकर ने नगर स्थित गेस्ट हाउस के सभागार में महिला फरियादियों की शिकायतें सुनीं। आयोग की सदस्यों को शिकायतें देने पहुंचे पीड़ितों ने उनके सामने अपना पक्ष रखा और न्याय की मांग की। सदस्यों ने सम्बन्धित थानों की पुलिस से बात कर मामला जाना और पुलिस अधीक्षक से वार्ता कर समस्या निराकरण कराने का अनुरोध किया।

उत्पीड़न की शिकायतें सुनें जाने के दौरान आयोग की सदस्य अर्चना राठौर ने कहा कि सरकार महिला उत्पीड़न के मामलों को लेकर गंभीर है। पीड़िताओं को तत्काल न्याय दिलाने के प्रयास किए जा रहे हैं। महिलाओं को न्याय मिले और नकी शिकायतें सुनीं जाए इसके लिए प्रत्येक माह के पहले बुधवार को जिला मुख्यालय पर शिकायतें सुनीं जाएंगी। महिला आयोग की सदस्यो ने कहा कि जनपद के थाना बेवर ,बिछवां में महिलाओं के उत्पीड़न के प्रकरण अधिक संज्ञान में आ रहे है।

पीड़ित महिलाओं द्वारा बार-बार शिकायत पर भी वहां के थानाध्यक्षों द्वारा प्रभावी कार्रवाई नहीं की जा रही है जो चिन्ता का विषय है। उन्होंने सुनवाई के दौरान पाया कि जून माह में जनपद के सभी थानों में महिला उतपीड़न से संबंधित 11 मामले दर्ज किए गए। जिनमें से 9 मामलों में नामजदों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि 2 मामलों में अभी तक पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की है इसमें 1-1 मामला थाना कुरावली,करहल में पंजीकृत है। उन्होंने दूरभाष पर संबंधित थानाध्यक्षों से वार्ता की और तत्काल प्रभावी कार्रवाई कर पीड़ितों को न्याय दिलाने को कहा।

आयोग की सदस्य रीता गुप्ता ने मौजूद अधिकारियों को निर्देश दिए कि महिला की शिकायतों को हर हाल में सुना जाए और उन्हें दर्ज किया जाए। महिला शिकायतें दर्ज न किए जाने की शिकायत मिली तो सम्बन्धित के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महिला आयोग की सदस्यों ने जाना पीड़िताओं का दर्द