DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अपने ही कर्मचारियों को दौड़ा रहा शिक्षा विभाग

लखनऊ। कार्यालय संवाददाता। केस-1 वरिष्ठ सहायक पद पर मिथिलेश कुमार ने जिस ऑफिस में 60 साल तक नौकरी की आज उसी आफिस में वह अपनी पेंशन और ग्रेजुटी के लिए दो साल से चक्कर काट रहे हैं। संयुक्त शिक्षा निदेशक कार्यालय में तैनात मिथिलेश 2012 में रिटायर हुए थे।

इसके बाद से वह अपने ऑफिस से लेकर निदेशक आफिस तक पेंशन और ग्रेजुएटी के लिए दौड़ रहे हैं।

केस-2- गुरुनानक गर्ल्स इंटर कॉलेज में सहायक लिपिक सतनाम सिंह वेतन एरियर के भुगतान के लिए डीआईओएस और जेडी आफिस में कई महीनों से चक्कर काट रहे हैं। विभाग के लेखा ऑडिट में तैनात एक लेखाकार वेतन एरियर पास करने के एवज में सतनाम सिंह से घूस मांग रहे हैं। इसकी शिकायत सतनाम सिंह ने अधिकारियों से की। लेखाकार के खिलाफ तो दूर की बाद मामले की जांच तक ठंडे बस्ते में डाल दी गई।

ये दो उदाहरण काफी हैं शिक्षा विभाग में व्याप्त भ्रष्टाचार का गंदा चेहरा दिखाने के लिए। आलम यह है कि कर्मचारी अपने ही साथियों से घूस मांग ने में कोई गुरेज नहीं कर रहे है। कानपुर रोड एलडीए कालोनी में रहने वाले संयुक्त शिक्षा निदेशक कार्यालय में वरिष्ठ सहायक पद से रिटायर हुए मिथिलेश कुमार बताते हैं कि एक दसिंबर 2008 को उन्हें एसीपी का लाभ दिया गया। उसके बाद वे दसिंबर 2012 में सेवानिवृत्त हो गए। पेंशन से जुड़े सारे दस्तावेज भी भेज दिए गए।

लेकिन आज तक पेंशन, नकदीकरण एवं ग्रेजुटी का पैसा नहीं मिला। उनके मुताबिक विभाग का कहना है कि एसीपी का लाभ गलत मिला है। यदि ऐसा तो उसे निरस्त करके पेंशन तो दी जानी चाहिए। मगर इसके बाद भी कभी जेडी कार्यालय तो कभी बेसिक शिक्षा निदेशालय के चक्कर लगवाए जा रहे है। गुरुनानक गर्ल्स इंटर कॉलेज के सहायक लिपिक सतनाम सिंह भी एरियर के लिए महीनों से दौड़ रहे है। बुधवार को उन्होंने अपने वेतन एरियर के लिए डीआईओएस से मुलाकात की और नाराजगी जताई।

सतनाम सिंह ने डीआईओएस को बताया कि महीनों से चक्कर लगाने के बाद भी न तो वेतन एरियर मिला और न ही घूस मांगने वाले के खिलाफ कोई कार्रवाई की गई है। वर्जनवेतन एरियर के मामले में अलग से बजट की व्यवस्था होती है। बजट न होने की वजह से भुगतान नहीं हो पा रहा है। बजट आने के बाद ही भुगतान हो सकेगा। पीसी यादव, डीआईओएस लखनऊवर्जनजेडी आफिस से सेवानिवृत्त वरिष्ठ सहायक मिथलेश कुमार के पेंशन प्रकरण की जानकारी मुझे नहीं है।

पेंशन का काम इलाहाबाद से होता है। अगर उनको कोई दिक्कत है। तो वह मुझे बता सकते है। डीबी शर्मा, बेसिक शिक्षा निदेशक।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अपने ही कर्मचारियों को दौड़ा रहा शिक्षा विभाग