DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड के आठ जिलों में पहुंचेगा गंगाजल

वह दिन दूर नहीं जब झारखंड के आठ जिलों में गंगाजल पहुंचेगा। पेयजल संकट से निपटने के लिए पेयजल एवं स्वच्छता विभाग ने वृहत्त योजना तैयार की है। इसके तहत राज्य के आठ जिलों साहिबगंज, देवघर, जामताड़ा, दुमका, गोड्डा, पाकुड़, गिरिडीह और कोडरमा में पीएचइडी गंगाजल पहुंचाने की तैयारी में है।

इसके लिए राजमहल के पास गंगा नदी पर वाटर स्टोरेज प्लांट बनाने की योजना है। वहां से गंगा का रॉ वाटर सभी आठ जिलों में सप्लाई की जाएगी। पेयजल एवं स्वच्छता विभाग मुख्यालय में प्लानिंग व मॉनिटरिंग के अधीक्षण अभियंता संजय कुमार झा ने बताया कि साहिबगंज, देवघर, जामताड़ा, दुमका, गोड्डा, पाकुड़, गिरिडीह और कोडरमा जिले में गंगा का रॉ-वाटर पहुंचाया जाएगा। इसके लिए राजमहल से लेकर देवघर तथा अन्य संबंधित जिलों में पाइप लाइन बिछाई जाएगी। सप्लाई योजना की सारी तैयार पूरी कर ली गई है।

इस योजना पर 15 हजार करोड़ रुपए खर्च का अनुमान है। योजना की स्वीकृति के लिए पीएचइडी मुख्यालय के मैप व तकनीकी विभाग को प्रस्ताव भेजा गया है। तकनीकी स्वीकृति मिलते ही एक महीने के अंदर टेंडर की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। अधीक्षण अभियंता के मुताबिक फ्रांस और अमेरिका की कंपनी इस योजना में दिलचस्पी दिखा रही है।

प्रत्येक जिले में लगेगा वाटर ट्रीटमेंट प्लांट
पीएचइडी के प्लानिंग व मॉनिटरिंग के अधीक्षण अभियंता का कहना है कि इतनी बड़ी योजना के लिए एक जगह से पानी शुद्ध करके सप्लाई संभव नहीं है। दूरी ज्यादा होने के कारण पानी के अशुद्ध होने की संभावना बनी रहेगी। इसलिए सभी आठ जिलों में वाटर ट्रीटमेंट प्लांट लगेगा। पानी की आवश्यकता के अनुसार जिला पेयजल एवं स्वच्छता विभाग पानी शुद्ध कर सप्लाई करेगा।

मुख्यालय से रहेगी सप्लाई पर नजर
संजय कुमार झा के अनुसार राजमहल से लेकर कोडरमा तक रॉ वाटर सप्लाई की मॉनिटरिंग व कंट्रोल मुख्यालय से होगा। स्काडा रांची (सिस्टम ऑफ कंट्रोल एवं डायरेक्शन ऑथरिटी रांची) सप्लाई को नियंत्रित करेगी। रांची में बैठे अधिकारी कंप्यूटर के जरिए सभी जगहों पर पानी सप्लाई की स्थिति पर नजर रखेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:झारखंड के आठ जिलों में पहुंचेगा गंगाजल