DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुनंदा की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट बदलने के आरोप गलत: एम्स

सुनंदा की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट बदलने के आरोप गलत: एम्स

एम्स ने अपने फॉरेंसिक मेडिसिन विभाग के प्रमुख सुधीर गुप्ता के इस आरोप को खारिज कर दिया है कि उन पर सुनंदा पुष्कर के शव की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट को बदलने के लिए दबाव डाला गया था।

तत्कालीन केन्द्रीय मंत्री शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बदलाव करने के संबंध में फॉरेंसिक मेडिसिन विभाग के प्रमुख सुधीर गुप्ता पर दबाव बनाए जाने के आरोपों को एम्स ने बुधवार को सिरे से खारिज किया है।

एम्स ने कहा कि एम्स प्रशासन उन आरोपों को सिरे से खारिज करता है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बदलाव करने के लिए सुधीर गुप्ता पर किसी भी प्रकार का दबाव था।

यह पूछने पर कि जैसा कि गुप्ता ने एक हलफनामे में संकेत दिया है कि क्या उन पर बाहर से कोई दबाव था, एम्स के प्रवक्ता अमित गुप्ता ने संवाददाताओं से कहा कि प्रशासन को इसकी जानकारी नहीं थी, लेकिन यदि बाहर से कोई दबाव था तो उन्हें इसके साक्ष्य देने होंगे।

मीडिया ऐण्ड प्रोटोकॉल प्रमुख और प्रवक्ता नीरजा भटला ने कहा कि हमारे पास इसका कोई साक्ष्य नहीं है कि उनपर कोई बाहरी दबाव था और उसपर उनकी प्रतिक्रिया क्या थी।

उधर, सुनंदा के पति और कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने कहा कि ही सुनंदा पुष्कर की मौत के कारणों पर स्पष्ट एवं निर्णायक निष्कर्ष के लिए तेजी से जांच होनी चाहिए।

पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर की पोस्टमार्टम रिपोर्ट को बदलने के लिए दबाव बनाए जाने संबंधी आरोप के बाद सरकार ने मंगलवार को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) से इस मामले पर विस्तृत रिपोर्ट मांगी। यह आरोप एक वरिष्ठ फोरेंसिक डॉक्टर ने लगाया है।
   
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने कहा कि मेरे स्वास्थ्य मंत्री बनने के बाद एम्स के डॉक्टर सुधीर गुप्ता ने हमारे विभाग को अपनी पदोन्नति के बारे में लिखा। परंतु कल टीवी चैनलों ने कहा कि उन्होंने कोई आरोप लगाया है। मैंने एम्स के निदेशक को लिखा है कि वह इस संदर्भ में विस्तृत जानकारी दें। एम्स के फोरेंसिक विज्ञान विभाग के प्रमुख डॉक्टर गुप्ता की ओर से लगाए गए आरोप ने 52 साल की सुनंदा की मौत से जुड़े रहस्य में नया मोड़ ला दिया है।
   
बीते 17 जनवरी की रात सुनंदा दक्षिणी दिल्ली के एक पांच सितारा होटल मृत पाई गई थीं। इससे एक दिन पहले उनकी पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार के साथ के साथ तकरार हुई थी। यह तकरार थरूर और मेहर के बीच कथित प्रेम प्रसंग को लेकर हुई थी।

गुप्ता ने अपनी ओर से लगाए गए कथित आरोप पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि वह संबंधित अधिकारियों के समक्ष तथ्यों को पहले ही रख चुके हैं। उन्होंने कहा कि मैं इस मुद्दे पर टिप्पणी नहीं करना चाहता। यह कानूनी मामला है, गंभीर मुद्दा है, मैं इसे मीडिया से साझा नहीं कर सकता। मैं सरकारी नौकर हूं। मुझे जो कुछ भी कहना था, उसे मैंने यथोचित स्थान पर कहा दिया है।
   
सुनंदा का पोस्टमार्टम करने वाले चिकित्सकों के पैनल की अगुवाई करने वाले गुप्ता ने कथित तौर पर यह आरोप लगाया है कि उन पर यह दिखाने के लिए दबाव बनाया गया था कि सुनंदा की मौत सामान्य थी, हालांकि उन्होंने इसका प्रतिरोध किया।
   
पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कहा गया था कि सुनंदा के दोनों हाथ पर चोट के एक दर्जन से अधिक निशान तथा गाल पर खरोंच का निशान था। इसके अलावा उनकी बाईं हथेली पर पर भी दांत से काटने का गहरा निशान था।
   
सुनंदा के पोस्टर्माटम के बाद विसरा का नमूना सुरक्षित रख लिया गया था और फिर से आगे की जांच के लिए सीएफएसल भेज दिया गया था। पुलिस के अनुसार सीएफएसएल के रिपोर्ट में संकेत दिया गया कि दवा की विषाक्तता (ड्रग प्वाइजनिंग) के कारण मौत हुई, लेकिन इसके तथ्य प्राथमिकी दर्ज करने के लिए पर्याप्त नहीं थे।

सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले की जांच बीते 23 जनवरी को अपराध शाखा को सौंप दी गई थी। इसके दो दिन बाद ही जांच को फिर से दक्षिणी जिला पुलिस के सुपुर्द कर दिया गया। दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 174 के तहत इस मामले की तहकीकात की प्रक्रिया शुरू की गई। दरअसल, किसी महिला की मौत शादी के सात साल के भीतर होने पर मामले की जांच एसडीएम करता है।
   
पुलिस को दी गई रिपोर्ट में एसडीएम ने कहा कि परिवार के किसी सदस्य ने मामले में किसी साजिश का संदेश नहीं जताया है। एसडीएम ने अपनी तहकीकात के दौरान सुनंदा के भाई, बेटे, पति थरूर और उनके कर्मचारियों के बयान रिकॉर्ड किए थे।

सुनंदा पुष्कर की मौत से जुड़े कथित आरोप के बारे में पूछे जाने पर दिल्ली पुलिस आयुक्त बी एस बस्सी ने कहा कि उन्हें डॉक्टर गुप्ता के आरोप के बारे में जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि मुझे डॉक्टर की ओर से लगाए गए आरोप के बारे में जानकारी नहीं है। मेरे पास आने पर मैं इस मामले पर गौर करूंगा।
   
इस सवाल पर कि दिल्ली पुलिस डॉक्टर गुप्ता से पूछताछ करेगी तो बस्सी ने कहा कि मामले के आधार पर इसका फैसला किया जाएगा। मामले की जांच दिल्ली पुलिस ही कर रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सुनंदा की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट बदलने के आरोप गलत: एम्स