DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सांसद के बेटे के कारण लूटने से बची दूसरी बोगी

गिरीडीह के सांसद रमेंद्र पांडे के बेटे बिक्रम पांडे व कुछ अन्य साहसिक यात्रियों के कारण एसी बोगी के सी-वन डकैतों के शिकार होने से बच गया। सी-टू बोगी में लूटपाट हो रही थी तो इसकी जानकारी बिक्रम पांडे के साथ ही कुछ यात्रियों को हो गयी।

इन लोगों ने तुरंत उस बोगी के सभी गेट को लॉक कर दिया। हालांकि डकैत दरवाजे को तोड़ने की काफी कोशिश की लेकिन उसे सफलता नहीं मिली। बिक्रम ने बताया कि ट्रेन में स्कॉर्ट नहीं थी। यह पूरी तरह राम भरोसे थी।

ट्रेन जब पटना जंक्शन पहुंची तो यात्रियों के बयान लेने के लिए पटना जंक्शन रेल थानाध्यक्ष संजय पांडे व डीएसपी अनंत कुमार सिंह भी पहुंचे। डीएसपी ने कहा कि सी-वन के 66 यात्रियों के साथ लूटपाट की गयी है। कदमकुआं के रहनेवाले एसके सिंह ने कहा कि डकैतों ने 15 हजार रुपये, घड़ी व मोबाइल फोन लूट लिये।

पटना के ही रहनेवाले कुमार उज्जवल से भी अपराधियों ने 15 हजार रुपये व मोबाइल फोन, केबी प्रसाद से मोबाइल फोन व रुपये लूट लिये। यात्रियों का कहना था कि डकैती महिलाओं के शरीर से जबरन गहने उतार गये थे। महिलाओं के साथ डकैतों ने बदसलूकी भी की।

पटना जंक्शन पर पहुंचे यात्रियों में रेल पुलिस के साथ ही रेलवे प्रशासन के प्रति काफी आक्रोश था। उनका कहना था कि बोगी में सवार टीटीई के पास वॉकी-टॉकी भी नहीं था। इस कारण वह घटना के सूचना भी नहीं दे पा रहा था। ट्रेन में स्कॉर्ट नाम की तो चीज ही नहीं थी।

डकैतों ने पेट्रीं कार के वेटर को भी नहीं बक्शा। बेगूसराय के रहनेवाले वेटर रामू से भी डकैतों ने 15 सौ रुपये लूट लिये। उसका मोबाइल फोन छीन कर बैटरी निकाल ली। बाद में मोबाइल फोन को बोगी में फेंक दिया। रामू ने बताया कि रुपये उसने यात्रियों को जो सामान बेचा था, उसी के थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सांसद के बेटे के कारण लूटने से बची दूसरी बोगी