DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एएमयू की करोड़ो की जमीन पर कब्जा

वरिष्ठ संवाददाता अलीगढ़। एएमयू की संपत्ति केवल अलीगढ़ में ही नहीं बल्कि देशभर में कई शहरों में है। समय-समय पर संपत्ति पर कब्जे की कोशिशें होती रहती हैं। कई संपत्तियों पर कब्जा हो चुके हैं और मामले कोर्ट में विचाराधीन हैं। हालिया मामला बुलंदशहर की संपत्ति पर कब्जे का है।

यहां भी करोड़ो की संपत्ति पर कब्जा कर लिया गया है। मामला कोर्ट में है लेकिन पैरवी बेहद कमजोर है। हारकर, वकील ने रजिस्ट्रार को चिट्ठी लिखकर कहा है कि पैरवी नहीं हुई तो मामला विवि के विरुद्ध तय हो सकता है। असल में विवि में संपत्तियों पर कब्जा और फिर कमजोर पैरवी का इतिहास रहा है। कमजोर पैरवी के कारण ही बुलंदशहर में कई मामले विवि के विरुद्ध तय हो चुके हैं। इससे पहले एएमयू किला के आसपास पड़ी जमीन, फार्म के पास पड़ी जमीन पर अवैध कब्जे हो चुके हैं।

यहां भी मामले कोर्ट में चल रहे हैं। एक फिल्मी हस्ती की विवि को दान की गई जमीन पर भी कब्जा कर लिया गया, अब मामला कोर्ट में हैं। कई जगहों पर दरगाह बना दी गई, जिसका संचालन एएमयू ने खुद करना शुरू कर दिया। बुलंदशहर में संपत्ति पर कब्जे को लेकर एडवोकेट नरेश चंद्र शर्मा ने अपनी चिट्ठी में कहा है कि बुलंदशहर में एएमयू की संपत्ति से संबंधित कु छ वाद विभिन्न न्यायालयों में चल रहे हैं। पिछले पांच छह महीने से इन वादों में एएमयू की ओर से कोई पैरवी नहीं की जा रही है, कोई पैरोकार भी मौजूद नहीं हो रहा है।

एक वाद संख्या 755/98 अपर सिविल जज न्यायालय में खारिज हो गया है, इससे पहले एक टैक्स अपील भी पैरोकारी न होने के कारण एएमयू के विरुद्ध तय हो चुकी है, यदि भविष्य में उचित पैरवी नहीं की गई तो चल रहे अन्य वाद भी इसी प्रकार एएमयू के विरुद्ध तय हो जाएंगे। नियत तारीखों पर कोई पैरोकार मौजूद नहीं होता है और न ही तारीखों के दिन फोन द्वारा ही कोई संपर्क किया जाता है। इस संबंध में रजिस्ट्रार से पक्ष जानने की कोशशि की गई लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एएमयू की करोड़ो की जमीन पर कब्जा