DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मात्र 2 शिक्षक के भरोसे 400 बच्चों की शिक्षा

पालाजोरी प्रतिनिधि। मुख्यालय स्थित राजकीय आदर्श मध्य विद्यालय पालाजोरी के बच्चों को शिक्षक के अभाव में विषयवार शिक्षा नहीं मिल पाती है। विद्यालय में शिक्षकों के अभाव के कारण पठन-पाठन व्यवस्था तो कुछ हद तक प्रभावित हो होती है। वहीं विषयवार व सिलेवस के अनुरुप पढ़ाई नहीं होने के कारण बच्चों की शिक्षा व्यवस्था भगवान भरोसे हो गई है।

विद्यालय में 360 बच्चो हैं नामांकित :-आदर्श मध्य विद्यालय पालाजोरी में नामांकित बच्चों की संख्या 360 के आस-पास है। प्रत्येक दिन यहां लगभग 260 से 270 बच्चों की उपस्थिति रहती है ,लेकिन शिक्षकों के अभाव के कारण बच्चों को विषयवार शिक्षा नहीं मिल पाती है।

स्वीकृत 8 में से 2 शिक्षक है पदस्थापित :-विद्यालय में 1 प्रधानाध्यापक सहित अन्य 7 शिक्षकों के पद स्वीकृत है जिसमें से 5 मैट्रिक प्रशिक्षित व 1-1 शिक्षक स्नातक प्रशिक्षित कला व शारीरिक शिक्षक के पद स्वीकृत है लेकिन इसके खिलाफ इन दिनों यहां प्रधानाध्यापक जमुना राय के अतिरिक्त मैट्रिक प्रशिक्षित एक मात्र शिक्षक रामचंद्र झा ही कार्यरत है।

प्रधानाध्यापक का अधिकांश समय रिपोर्ट बनाने व विभागीय कायरें में बितता है। जबकि एक अन्य शिक्षक रामचंद्र झा के भरोसे ही पठन-पाठन का कार्य चल रहा है। ऐसे में यह सहज ही समझा जा सकता है कि कक्षा प्रथम से लेकर अष्टम तक के बच्चों को किस तरह की शिक्षा दी जाती है।

क्या कहते है प्रधानाध्यापक :-इस संबंध में प्रधानाध्यापक जमुना राय का कहना है कि शिक्षकों की घोर कमी रहने के कारण पठन-पाठन व्यवस्था प्रभावित हो गई है। विद्यालय में कायम समस्याओं के बारे में विभाग को सूचना दे दी गई है।

क्या कहते है बीइइओ :-इस संबंध में बीइइओ नरेंद्र कुमार का कहना है कि पूरी झारखण्ड में शिक्षकों की कमी है इसलिए वे अपने स्तर से कुछ नहीं कर सकते है। शिक्षक नियुक्ति प्रक्रिया चल रही है आशा है कि शिक्षकों की कमी को कुछ हद तक दूर कर लिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मात्र 2 शिक्षक के भरोसे 400 बच्चों की शिक्षा