अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फरक्का एक्स. से 45 कछुए बरामद

तस्करी के लिए ले जा रहे 45 जीवित कछुओं को दानापुर स्टेशन पर बरामद किया गया। संरक्षित वन्य जीवों को आरपीएफ की चेकिंग के दौरान फरक्का एक्सप्रस के जनरल कोच से पकड़ा गया। सभी को इलाज और पुनर्वासित करने के लिए संजय गांधी जैविक उद्यान प्रशासन को सौंप दिया गया। उद्यान आने के बाद बरामद कुछुओं में से एक की मौत हो गयी जबकि शेष को उद्यान के काला बंदर और चिल्ड्रन पार्क के तालाब में छोड़ दिया गया। आरपीएफ इंस्पेक्टर प्रमोद कुमार ने बताया कि मंगलवार को फरक्का एक्सप्रस में तस्करों द्वारा कछुओं को ले जाने का प्रयास किया जा रहा था। दानापुर स्टेशन पर जांच के दौरान जनरल कोच ई.आर 0 के सीट के नीचे तीन बैग संदेहास्पद स्थिति में लावारिश पड़े हुए थे। सभी बैग छिपाकर रखे गये थे।ड्ढr ड्ढr यात्रियों से इस बारे में पड़ताल की गयी तो इसका दावेदार सामने नहीं आया। किसी अनहोनी से बचाव के लिए सुरक्षाकर्मियों द्वारा बैग खोला गया तो सभी भौंचक्क रह गए। बैगों के अन्दर बोरा में जीवित कछुए पाए गए। इसमें 43 छोटा एवं दो बड़े कछुए मिले जिसके पैर बंधे हुएा थे। इसमें पहले भी पटना स्टेशन एवं अन्य स्टेशनों पर ट्रन में छिपा कर ले जा रहा कछुआ को बरामद किया गया। सूत्रों की माने तो इसका अर्न्तराज्य गिरोह सक्रिय है।ड्ढr ड्ढr संभावना है कि यह कछुआ उत्तरप्रदेश के किसी धार्मिक तालाब आदि से पकड़कर पश्चिम बंगाल ले जा रहा था। इसका इस्तेमाल खाने या दवा बनाने में हो सकता है। इधर संजय गांधी जैविक उद्यान के उप निदेशक सुभाष चद्र वर्मा ने बताया कि उद्यान लाए गए कछुओं में चार घायल थे जिनमें एक की मौत हो गयी। घायलों की चिकित्सा के बाद सभी को पुनर्वासित कर दिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: फरक्का एक्स. से 45 कछुए बरामद