DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भूमि सुधार कानून को सख्ती से लागू करे सरकार

 चन्दौली। निज संवाददाता। अखिल भारतीय खेत मजदूर यूनियन एवं लाल झंडा पत्थर खदान मजदूर यूनियन के बैनर तले मजदूरों ने केन्द्र एवं प्रदेश सरकार के नीतियों के खिलाफ प्रदर्शन किया।

इस दौरान जुलूस भी निकाला गया जो नगर भ्रमण के बाद ब्लॉक पर जागर सभा में परविर्तित हो गई। अंत में जिलाधिकारी को कलक्ट्रेट पहुंचकर पत्रक सौंपा गया। सभा में वक्ताओं ने कहा कि 1998 के त्रिपक्षी समझौता के अनुसार खेती करने दिया जाये। बैराठ फार्म के अनुसूचित व पिछड़ी जाति के लोगों का उत्पीड़न बन्द किया जाये। फर्जी मुकदमें वापस लिये जायें। बैराठ फार्म और अन्य सीलिंग से निकली भूमि की इलाहाबाद हाईकोर्ट में नशि्चित अवधि में निस्तारण किया जाये।

कहा कि भूमहिीन को भूमि दिया जाये। उद्योग वहिीन चकिया तहसील के वृक्ष वहिीन पहाडिम्यों पर पत्थर खनन की स्वीकृति दी जाये। पत्थर तोड़ने वाली क्रसर मशीन पर प्रतबिंध लगाया जाय। भूमि सुधार कानून को सख्ती से लागू किया जाये। खेत मजदूरों को पक्का मकान, शौचालन का निर्माण कराया जाये। जंगल में कृषि योग्य भूमि को भूमाफियाओं से मुक्त कराया जाये। कहा कि सभी परिवारों को 35 किलोग्राम खाद्यान 2 रुपये किलो की दर से मुहैया कराया जाये। भाकपा नेता एवं पूर्व विधायक दीनानाथ सिंह यादव ने कहा कि पार्टी भूमिहीनों, गरीबों एवं किसानों के मुद्दों को लेकर आंदोलन करेगा।

अखिल भारतीय खेत मजदूर संघ के बृजलाल भारती ने कहा कि सरकार के गलत नीतियों के कारण मजदूर गांव से पलायन कर रहे हैं। इस दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री को सम्बोधित 31 सूत्रीय मांगपत्र जिलाधिकारी को सौपा गया। जुलूस व सभा में मदन राजभर, मगरू, राधेश्याम बिन्द, संजय राजभर आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भूमि सुधार कानून को सख्ती से लागू करे सरकार