DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ओबीसी सर्टिफिकेट को लेकर दुविधा में न रहें छात्र

नई दिल्ली। दाखिले के पहले दिन कॉलेज में दाखिला लेने आए छात्र जाति प्रमाण पत्र को लेक खासे परेशान दिखे। खास तौर पर अन्य पिछड़ा वर्ग के प्रमाण पत्र को लेकर छात्र असमंजस की स्थिति में थे। छात्रों की दुविधा को देखते हुए साउथ कैंपस के डीन दिनेश वाष्र्णेय ने बताया कि छात्र जातिप्रमाण पत्र को लेकर डीयू द्वारा जारी कुछ दिशा-निर्देश को ध्यान में रखें तो उन्हें दिक्कत नहीं होगी। उन्होंने बताया कि अन्य पिछड़े वर्ग से आने वाले छात्र दाखिला लेने के लिए आते समय अपना जाति प्रमाणपत्र जरूर लाएं।

प्रमाण पत्र में तहसील दार से नीचे स्तर के अधिकारी के हस्ताक्षर को मान्य नहीं माना जाएगा। छात्र जाति प्रमाणपत्र लेते समय यह आश्वस्त कर लें की उसपर सर्टिफिकेट नंबर लिखा हो। बगैर इस नंबर के जाति प्रमाणपत्र को मान्य नहीं माना जाएगा। उन्होंने बताया कि डीयू द्वारा अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए कुछ अहम शर्ते रखी गई हैं। मसलन, अन्य पिछड़ा वर्ग से आने वाले छात्र क्रिमी लेयर न हों, उनके अभिभावक की आय 6.25 लाख सालान से ज्यादा न हो और उनकी जाति केंद्र सरकार द्वारा जारी की गई सूची में शामिल हो।

वाष्र्णेय ने बताया कि अगर कोई छात्र अन्य पिछड़ा वर्ग में आता है और उसके अभिभावक की सालाना आय साव छह लाख रुपये से ज्यादा है तो ऐसे छात्रों को अपने क्षेत्र के राजस्व अधिकारी से आय प्रमाणपत्र बनवाना जरूरी होगा। ऐसे छात्रों को बगैर आय प्रमाण पत्र के दाखिला नहीं दिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ओबीसी सर्टिफिकेट को लेकर दुविधा में न रहें छात्र