DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिर अटकी मेट्रो, तीन घंटे तक परेशान हुए यात्री

नई दिल्ली प्रमुख संवाददाता। मंगलवार सुबह सबसे व्यस्त रहने वाली मेट्रो ब्लू लाइन एक बार फिर से अटक गई। ओएचई(ओवरहेड इलेक्ट्रीक लाइन)में आई खराबी के कारण तीन घंटे तक यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। हैरत की बात है कि 21 जून को भी इसी जगह ओएचई में खराबी आई थी। सुबह 10:20 पर कीर्ति नगर-सुभाष नगर के मध्य यह खराबी हुई। इसके बाद मेट्रो सेवा डेढ़ बजे तक सामान्य हो सकी। इस दौरान मेट्रो को खंड में चलाया गया।

लेकिन मेट्रो की रफ्तार व रुक-रुक कर चलने की वजह से मेट्रो के भीतर और स्टेशनों पर यात्रियों की खासी भीड़ एकत्रित हो गई। लिहाजा कुछ स्टेशनों पर यात्रियों के टोकन भी वापस किये गए। नोएडा-वैशाली-द्वारका लाइन पर यह खराबी मंगलवार को पीक आवर में आई। सुबह 10:20 बजे से शुरू हुई इस खराबी के बाद मेट्रो सेवा दोपहर करीब डेढ़ बजे तक सामान्य हो सकी। तब तक इस लाइन पर कीíत नगर से नोएडा-वैशाली तथा सुभाष नगर-द्वारका के बीच मेट्रो परिचालन रहा।

लेकिन खराबी की वजह से कीíत नगर-सुभाष नगर के बीच सिंगल लाइन पर दोनों दिशाओं में मेट्रो सेवा का परिचालन किया गया। खराबी की वजह से मेट्रो की रफ्तार अन्य स्टेशनों तक पहुंचने में भी इतनी धीमी थी कि द्वारका से बाराखंभा मेट्रो स्टेशन और आनंद वहिार-नोएडा-वैशाली से बाराखंभा तक सामान्य दिनों में महज 40 मिनट में मेट्रो पहुंच जाती है लेकिन शनिवार को खराबी के दौरान यह सफर 2 घंटे में तय किया गया। डीएमआरसी प्रवक्ता अनुज दयाल के मुताबिक ओएचई में खराबी को 11:55 बजे दुरुस्त कर लिया गया।

जिसके बाद मेट्रो सेवा सामान्य हो गई। पूरी लाइन प्रभावित रहीडी.एम.आर.सी. प्रशासन अपनी ओर से भले ही अपनी सफाई में दलील दे रहा हो, लेकिन कीíत नगर से सुभाष नगर के बीच सिंगल लाइन पर मैट्रो सेवा परिचालन का असर पूरे नोएडा-वैशाली-द्वारका रूट पर देखने को मिला। किसी स्टेशन पर मेट्रो 10 मिनट की देरी से पहुंच रही थी तो किसी स्टेशन पर यह फासला 15-20 मिनट का था। बल्कि नोएडा रूट पर मेट्रो की गति किसी बैलगाड़ी के समान थी।

स्टेशनों पर भी महज दस सेकंड तक रुकने वाली मेट्रो पांच-पांच मिनट तक रुक रही थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फिर अटकी मेट्रो, तीन घंटे तक परेशान हुए यात्री