DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कानपुरः छेड़छाड़ से परेशान छात्रा ने खुद को लगाई आग

पनकी में मंगलवार सुबह छेड़छाड़ से परेशान इंटर की छात्रा ने आत्मदाह का प्रयास किया। चीख पुकार पर दौड़े पड़ोसियों ने आग का गोला बनी छात्रा को बचाया और हैलट में भर्ती कराया। वहीं आरोपी पर कार्रवाई करने के लिए पुलिस छात्रा के बयान का इंतजार कर रही है।

पनकी कटरा निवासी छात्रा के पिता पावर हाउस में प्राइवेट कर्मचारी हैं। मां हनुमान मंदिर के सामने एक पान की दुकान चलाती है। छानबीन में पता चला कि कर्मचारी के घर पर बीते कई दिनों से एक व्यक्ति आता जाता है। इस समय वह परिवार के काफी करीब था। दो दिन पहले उसी व्यक्ति ने छात्रा से अश्लील हरकत कर दी। पीड़िता ने मां से शिकायत की और उस व्यक्ति को घर आने से मना करने के लिए कहा। पर मां ने उल्टा उसे ही डांट दिया। सोमवार रात मां-बेटी में जमकर झगड़ा हुआ। मंगलवार सुबह मां बेटी को समझाकर दुकान चली गई। तभी छात्रा ने खुद को आग के हवाले कर दिया। उस दौरान घर पर कोई नहीं था।

पड़ोसियों ने उसकी चीख सुनी तो उसे बचाने दौड़े। जैसे तैसे आग बुझाई। घटना की जानकारी पाते ही माता-पिता भी दौड़े चले आए। फिर घायल को हैलट ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसकी हालत नाजुक बताई है।

पुलिस की पड़ताल और मां की कहानी
पनकी मंदिर पुलिस चौकी इंचार्ज एसआई उमेश कुमार ने बताया कि छात्रा ने आग लगाई उस कमरे में चारों ओर केरोसिन फैला था। तेल से भरी एक केन भी पुलिस को मिली। छात्रा का चेहरा बच गया। बाकी पूरा शरीर जला था। पड़ताल में साफ हो गया कि छात्रा ने आग लगाई है। फिर भी मां पुलिस को गुमराह करती रही। बोली खाना बनाते वक्त बेटी जली है। एसआई का कहना है कि खाना बनाते वक्त झुलसी होती तो चेहरा कैसे बच गया।

मरती है तो मर जाए एंबुलेंस अपने समय से आएगी
आग के हवाले हुई छात्रा को पड़ोसियों ने बचा लिया। लेकिन उसे अस्पताल पहुंचाने के लिए कोई साधन उनके पास नहीं था। तभी पड़ोसी शिवभान ने 108 एंबुलेंस के कंट्रोल रूम में फोन करके जल्दी एंबुलेंस भेजने की गुहार लगाई। तो एक युवती ऑपरेटर ने उनसे कहा कि लड़की मरती है तो मर जाए एंबुलेंस अपने समय से आएगी। फिर 55 मिनट बाद एंबुलेंस पहुंची तो छात्र को हैलट ले जाया गया।

घटनास्थल से दस कदम दूरी पर पनकी मंदिर पुलिस चौकी है। 50 मीटर दूर पनकी थाना। सुबह का वक्त था। थाने के बाहर ही एंबुलेंस खड़ी थी। उसके बावजूद उसे घटनास्थल पर पहुंचने में करीब एक घंटे का समय लग गया। इतना ही नहीं खुद चौकी इंचार्ज भी एक घंटे बाद जांच के लिए आए। उस समय घर पर आसपास के लोगों की भीड़ थी। मां बाप और घायल हैलट में थे।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कानपुरः छेड़छाड़ से परेशान छात्रा ने खुद को लगाई आग