DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सूखा बीता जून, इस महीने मानसून के सक्रिय होने की उम्मीद

मानसून जून के पूरे महीने के दौरान कमजोर रहा जिसके चलते देश के हिस्सों में कम वर्षा हुई जबकि गुजरात के कुछ हिस्सों में तो 91 प्रतिशत तक कम वर्षा हुई। भारतीय मौसम विभाग के अनुसार देश में 172 मिलीमीटर के मुकाबले कुल मिलाकर 98.1 मिलीमीटर वर्षा हुई जो कि सामान्य से 43 प्रतिशत कम है। यद्यपि संभव है कि कुछ दिनों में ही राहत मिल जाए क्योंकि मानसून के इस महीने आने की उम्मीद है।

मध्य भारत और पश्चिमोत्तर भारत सबसे अधिक प्रभावित हुआ जिसमें गुजरात क्षेत्र में सामान्य से 91 प्रतिशत कम वर्षा दर्ज की गई। क्षेत्र में जून में संभावित 138.5 मिलीटर वर्षा के मुकाबले 12.2 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई। इसी तरह कच्छ और सौराष्ट्र क्षेत्रों में 91.6 मिलीमीटर के मुकाबले 22.6 मिलीमीटर वर्षा हुई जो कि 75 प्रतिशत कम है। मराठवाड़ा और मध्य महाराष्ट्र क्षेत्रों में भी मुश्मिल से ही कोई वर्षा हुई और वहां क्रमश: 80 प्रतिशत और 71 प्रतिशत कम वर्षा दर्ज की गई।

मध्य महाराष्ट्र में 151 मिलीमीटर सामान्य वर्षा के मुकाबले 44 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई जबकि मराठवाड़ा में 148.9 मिलीमीटर सामान्य वर्षा के मुकाबले मात्र 30.4 मिलीमीटर वर्षा ही दर्ज की गई। मध्य प्रदेश, कोंकण और गोवा तथा विदर्भ में भी कम वर्षा दर्ज की गई। इसी तरह से पश्चिमोत्तर भारत के कई हिस्सों जैसे पूर्वी राजस्थान, उत्तराखंड और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भी जून में कम वर्षा हुई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सूखा बीता जून, इस महीने मानसून के सक्रिय होने की उम्मीद