DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चीन को माल देसी लघु उद्योगों के लिए बड़ी चुनौती:कलराज

राज्य मुख्यालय। विशेष संवाददाता। चीन द्वारा अपना सस्ता माल भारतीय बाजारों में खपाने को भारत सरकार ने बड़ी चुनौती मानते हुए गंभीरता से लिया है। सरकार का कहना है कि लघु उद्यमी अपने माल की ज्यादा लागत आ जाने के कारण चीन के उत्पादों के आगे नहीं टिक पाते हैं। अब केंद्र सरकार इसके कार्ययोजना बना रही है लेकिन इसका खुलासा बाद में किया जाएगा। केंद्रीय लघु सूक्ष्म व मध्यम उद्योग मंत्री कलराज मिश्र ने सोमवार को यह बात पत्रकारों से कही।

उन्होंने कहा कि वैसे यह उद्योग काफी संभावनाओं वाला है और तेजी से बढ़ रहा है। लेकिन चीन का यहां ड़प होता माल सरकार के लिए चुनौती है। इस क्षेत्र को अब फिर से परिभाषित करना होगा। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में अभी तक जो काम हुआ है, वह समुद्र में बूंद के समान है। उन्होंने कहा कि उद्यमियों क ो प्रशिक्षण देने के 15 टूलरूम और बनाएं जाएंगे। अभी 18 टूल रूम काम रहे हैं। इसके अलावा कक्षा दस पास या आईटीआई पास युवाओं को तकनीकी प्रशिक्षण दिलवाने के साथ साथ उनके लिए आसान कर्ज की व्यवस्था भी होगी।

लघु उद्यमियों के लिए ऐसा सिंगल विंडो सिस्टम लागू किया जाएगा जहां उनके केंद्र व राज्य सरकार के समन्वय से सभी मंजूरी एक साथ मिल जाएं। उन्होंने कहा कि यूपी में पूर्वाचल व बुंदेलखंड में लघु उद्योगों को खासा बढ़ावा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि वाराणसी में बुनकरों व अन्य उद्यमियों के लिए वह खास योजना बना रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चीन को माल देसी लघु उद्योगों के लिए बड़ी चुनौती:कलराज