अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आतंकियों से कोई समझौता न करे पाक : यूएस

अमेरिका ने पाकिस्तान को आगाह किया है कि वह अफगानिस्तान की सीमा से सटे कबायली इलाकों में शरण लिए आतंकवादियों से किसी तरह का समझौता नहीं करे नहीं तो ये आतंकवादी पाकिस्तान के साथ-साथ अन्य देशों पर भी हमला कर सकते हैं। अमेरिका के विदेश उपमंत्री जॉन नेग्रोपोंट ने मंगलवार को कहा कि उनकी सरकार को इस बात का संदेह है कि पाकिस्तान की नई सरकार आतंकवादियों से समझौता कर सकती है। उन्होंने कहा कि इन आतंकवादियों से समझौता करने का मतलब पाकिस्तान सहित विश्व के अन्य हिस्से के लिए खतरा मोल लेना है। माना जाता है कि न्यूयार्क स्थित वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुए हमले का मुख्य साजिशकर्ता अलकायदा का सरगना आेसामा बिन लादेन पाकिस्तान अफगानिस्तान सीमा स्थित इन कबायली क्षेत्रों में शरण लिए हुए है। इसके अलावा तालिबान के आतंकवादी भी सीमा से सटे उत्तरी और दक्षिणी वजीरिस्तान में छुपे हैं। नेग्रोपोंट ने कहा कि मैं उम्मीद करता हूं कि पाकिस्तान की नई सरकार इस मामले में सावधानी बरतेगी और कोई भी ऐसा कदम नहीं उठाएगी, जिससे आतंकवादियों को कहीं भी हमला करने का मौका मिले। उन्होंने कहा कि कुछ पाकिस्तानियों का मानना है कि आतंकवादियों के साथ समझौते से फायदा होगा। इससे पहले भी ऐसी कोशिशें की गई हैं लेकिन सब बेकार गईं। गौरतलब है कि इससे पहले पाकिस्तान के राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने वर्ष 2006 में इन आतंकवादियों से समझौता किया था जिसे बाद में खत्म कर दिया गया। गत फरवरी में पाकिस्तान में हुए संसदीय चुनाव में मुशर्रफ समर्थित गठबंधन की हार हुई और नए गठबंधन की सरकार का गठन हुआ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आतंकियों से समझौता न करे पाक : यूएस