DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जून मध्य तक मतदान केंद्रों का पुनर्गठन हो: चुनाव आयोग

चुनाव आयोग ने जिलाधिकारी-सह-जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को स्पष्ट कर दिया है कि मतदान केन्द्रों के रशनलाइजेशन (युक्ितकरण) और पुनर्गठन में किसी प्रकार की ढिलाई नहीं होनी चाहिए। वर्ष 200ा लोकसभा चुनाव फोटोयुक्त मतदाता सूची के आधार पर होगा। इसको ध्यान में रखकर आयोग ने तय समय सीमा के आधार पर त्रुटिरहित फोटोयुक्त मतदाता सूची और मतदाता पहचान पत्र तैयार करने का निर्देश दिया है।ड्ढr ड्ढr बूथों के पुनर्गठन और मतदाता सूची की तैयारियों के मद्देनजर बुधवार को बिहार राज्य स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण संस्थान शेखपुरा में राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुधीर कुमार राकेश ने जिलाधिकारी-सह-जिला निर्वाचन पदाधिकारियों और प्रभारी उप निर्वाचन पदाधिकारियों की बैठक बुलाई थी। बैठक में अधिकारियों को स्पष्ट तौर पर कहा गया कि मॉनसून के पहले जून के मध्य तक हर हाल में मतदान केन्द्रों के पुनर्गठन की प्रक्रिया पूरी कर लें। नए परिसीमन के आधार पर बूथों के पुनर्गठन के साथ ही इस बात पर भी विशेष जोर दें कि क्षेत्राधिकार बदलने के क्रम में एक भी मतदाता छूटने न पाए। नए बूथों को स्थापित करने में वोटरों की सुविधा का खास ध्यान रखने की भी हिदायत दी गयी।ड्ढr ड्ढr बैठक के दौरान जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को नए परिसीमन के अनुसार मतदाता सूची की तैयारी और कंट्रोल टेबल में उसके मुताबिक संशोधन करने का निर्देश दिया गया। इसके अलावा फोटोयुक्त मतदाता सूची में फोटो की संख्या बढ़ाने के लिए जिला स्तर पर की गयी कार्रवाई की भी समीक्षा की गयी। बैठक में चुनाव आयोग द्वारा नियुक्त मतदाता सूची ऑब्जर्बर भी उपस्थित थे।ड्ढr ड्ढr मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री राकेश ने बताया कि सभी 5 विधान सभा क्षेत्रों में फोटोयुक्त मतदाता सूची की प्रक्रिया पूरी कर ली गयी है और 238 निर्वाचन क्षेत्रों में यह प्रक्रिया चल रही है। इसके साथ ही बूथों के पुनर्गठन और मतदाता पहचान पत्र तैयार करने की भी प्रक्रिया चल रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जून मध्य तक मतदान केंद्रों का पुनर्गठन हो: चुनाव आयोग