अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चाॉब कार्ड न बनाने पर वीडीओ बर्खास्त

दस दिनों से बिजली नहीं आ रही। कोटेदार सरकारी दर से ज्यादा पैसा लेकर अनाज दे रहा है। ग्राम पंचायत अधिकारी ने अब तक जॉब कार्ड नहीं बनाए। अनुसूचित जाति के गरीबों को पट्टे की जमीन पर हक नहीं मिला..सरधुवा ग्राम पंचायत की ‘खुली बैठक’ में सरकारी व्यवस्था का यह हश्र देखकर बिफर डीएम ने ग्राम पंचायत अधिकारी (वीडीओ) को बर्खास्त करने, आपूर्ति निरीक्षक और विद्युत विभाग के अवर अभियंता को निलंबित करने, कोटेदार के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की संस्तुति की और राजस्व निरीक्षक को प्रतिकूल प्रविष्टि देने का निर्देश दिया।ड्ढr ग्राम पंचायतों की खुली बैठकों का सच जानने डीएम चन्द्रभानु बुधवार को सरधुवा गाँव पहुँचे। यहाँ जुटे ग्रामीणों ने सरकारी व्यवस्था की पोल खोल कर रख दी। ग्रामीणों ने कहा कि उन्हें अब तक जॉब कार्ड नहीं दिया गया है। इस लापरवाही पर वीडीओ कौशल किशोर को पहले ही निलंबित किया जा चुका है। लिहाजा डीएम ने उन्हें बर्खास्त करने का निर्देश दिया। ग्रामीणों ने बताया कि दस दिनों से बिजली नहीं आ रही है। आँधी पानी में टूटे बिजली के तारों को हटाया नहीं गया है। इस पर डीएम ने संबंधित जेई को निलंबित करने का आदेश दिया। तत्काल कार्रवाई होने से उत्साहित ग्रामीणों ने सरकारी योजनाओं का सच खोल कर रख दिया। बताया गया कि कोटेदार अनाज व तेल कम देता है और निर्धारित मूल्य से अधिक पैसा लेता है। कोटा महिला के नाम है लेकिन उसे परिवार के अन्य लोग चलाते हैं। डीएम ने आपूर्ति निरीक्षक को निलंबित करने और महिला कोटेदार के खिलाफ एफआईआर कराने को कहा। इसके साथ ही एसडीएम मोहनलालगंज को पूर मामले की जाँच के आदेश दिए।ड्ढr डीएम ने अधिकारियों से कहा कि वे नरगा के तहत हर परिवार को सौ दिन का रोगार दिलाएँ। जिसकी रकम मजदूर के बैंक खाते में जमा कराएँ। अधिकारी खुली बैठकों में मौजूद रहें। खुली बैठकों में न जाने वाले अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चाॉब कार्ड न बनाने पर वीडीओ बर्खास्त