DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हाजीपुर में बच्चों ने डीएम आवास घेरा

एक तरफ राज्य सरकार जहां महादलितों के उत्थान के लिए कई योजनाओं पर काम कर रही है वहीं यहां स्थानीय राजकीय कन्या मध्य विद्यालय के प्रांगण में संचालित दलित प्राथमिक विद्यालय के सैकड़ों छात्र-छात्राओं का शैक्षणिक भविष्य अधर में लटक गया है। प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी के आदेश से उक्त विद्यालय में तालाबंदी कर दी गई है। इस घटना से आक्रोशित विद्यालय में पढ़ने वाले सैकड़ों दलित छात्र-छात्राओं एवं उनके अभिभावकों को बुधवार की सुबह डीएम आवास का घेराव किया।ड्ढr ड्ढr बच्चों के साथ पहुंचे उनके अभिभावकों का कहना था कि प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी ने बिना किसी पूर्व सूचना के आधार पर स्कूल में तालाबंदी कर दी है जिसके कारण सैकड़ों बच्चों के शैक्षणिक भविष्य पर प्रश्न चिह्न् खड़ा हो गया है। हालांकि छात्र-छात्राओं एवं उनके अभिभावकों को उस समय निराशा हाथ लगी जब डीएम डा. प्रतिमा ने किसी कारणवश मिलने से इंकार कर दिया। बाद में आक्रोशित छात्रों ने एसडीओ वीरन्द्र कुमार सिन्हा से विद्यालय में की गई तालाबंदी को लेकर आक्रोश जताया और एक ज्ञापन सौंपा। एसडीओ ने इस संबंध में जांच का आश्वासन दिया है।ड्ढr ड्ढr मालूम हो कि 1में तत्कालीन मुख्यमंत्री द्वारा इस विद्यालय की शुरुआत की गई थी। इसके पीछे दलित, महादलित एवं पिछड़ी जाति के बच्चों को शिक्षित करना उद्देश्य था। बच्चों के साथ डीएम से मिलने गए विद्यालय शिक्षा समिति के अध्यक्ष, सचिव व बसपा के जिलाध्यक्ष बालेन्द्र दास तथा समाजसेवी निकेत कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि यह विद्यालय राजकीय कन्या मध्य विद्यालय के एक कमरा एवं बरामदे में संचालित होता है। प्रशासन ने इस स्कूल को भवन उपलब्ध कराने के बदले विद्यालय में तालाबंदी कर दिया जिसके कारण वहां पढ़ने वाले 400 दलित बच्चों का भविष्य अधर में लटक गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हाजीपुर में बच्चों ने डीएम आवास घेरा