अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पांच हचार ओबीसी छात्र बुरे फंसे

लखनऊ विश्वविद्यालय प्रवेश समिति के फैसले से विश्वविद्यालय के करीब पाँच हजार ओबीसी छात्र बुरे फंस गए हैं। सोमवार को प्रवेश समिति ने फैसला लिया था कि जीरो फीस पर दाखिला लेने वाले छात्रों की शुल्क प्रतिपूर्ति का पैसा पिछड़ा वर्ग कल्याण निदेशालय नहीं दे रहा है, इसलिए जब तक ये छात्र पूरा शुल्क जमा नहीं करते उनका रिजल्ट घोषित नहीं किया जाएगा। इससे ओबीसी छात्र नाराज हैं। बुधवार को इनमें से कुछ छात्रों ने वीसी दफ्तर पर धरना भी दिया। छात्रों का कहना है कि जीरो फीस पर दाखिला लेना उनका गुनाह नहीं है। परीक्षाएं बीतने के बाद अब जब वे घर जाने की तैयारी कर रहे हैं, तो अचानक फीस देना उनके लिए मुश्किल है। सबसे ज्यादा दिक्कत उन छात्रों को है, जिन्होंने ऊंची फीस वाले स्ववित्तपोषित पाठ्यक्रमों में दाखिला लिया है। यह सारी दिक्कत लविवि और पिछड़ा वर्ग कल्याण निदेशालय के बीच गलतफहमी के कारण है। इस संबंध में पिछले काफी समय से विश्वविद्यालय और निदेशालय के बीच पत्र व्यवहार चल रहा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पांच हचार ओबीसी छात्र बुरे फंसे