अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नक्सलियों ने बैंक के 5 करोड़ लूटेघटना स्थल से लौटकर

झारखंड में नक्सलियों ने दिनदहाड़े पांच करोड़ लूट लिये। पैसा आइसीआइसीआइ बैंक का था। घटना रांची- जमशेदपुर हाइवे पर तमाड़ के पास मुरपा में हुई। यह राज्य में सबसे बड़ी लूट है। बैंक की बुलेट प्रूफ गाड़ी के साथ नक्सली आराम से जंगल की ओर भाग निकले। वे छह-आठ की संख्या में थे और बाइक से वाहन का पीछा कर रहे थे। गाड़ी में पांच करोड़ 11 लाख 36 हाार के अलावा एक किलो 30 ग्राम सोना भी था। गार्डो के दो 12 बोर की बंदूक और 50 गोली भी नक्सलियों ने लूट लिये हैं।ड्ढr जमशेदपुर से लायी जा रही थी रकम : रकम जमशेदपुर आइसीआइसी बैंक की बिष्टुपुर शाखा से रांची लायी जा रही थी। इसे लाने के लिए रांची से टॉप सिक्योरिटी एजेंसी के कर्मचारी बुलेट प्रूफ वाहन नंबर एमएच 4-3 एफ 4614 से गये थे। चार ट्रंकों में रकम थी। वाहन पर सिक्योरिटी एजेंसी के दो गनर, दो लोडर, कैश आफिसर और चालक थे।ड्ढr पानी पीने उतर, हो गयी लूट : दिन के करीब एक बजे गाड़ी मुरपा के पास रुकी। लोडर, गनमैन और कैश अफिसर लघुशंका और चापानल से पानी पीने और भरने के लिए गाड़ी से उतर गये। गाड़ी में सिर्फ ड्राइवर ही था। इतने में बाइक से पीछा कर रहे नक्सली आ धमके, अंधाधुंध फायरिंग कर चालक विनय सिंह को कब्जे में कर लिया। गार्ड के हथियार गाड़ी में ही थे। बाइक से उतर चार नक्सली बैंक के वाहन पर सवार हो गये और जंगल की ओर लेकर चले गये। उधर, दिनदहाड़े गोली चालन की घटना के बाद गार्ड, लोडर समेत सभी कर्मी बदहवाश भागे। होटल बंद हो गया।ड्ढr मुठभेड़ में 400 गोली चली : घटना की सूचना पुलिस को मिली, इलाका सील कर दिया गया। बुंडू पुलिस ने गार्ड और कैश आफिसर के साथ नक्सलियों का पीछा भी किया। पुलिस आते देख नक्सलियों ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी, जिसमें बुंडू थाने का हवलदार और ड्राइवर घायल हो गया। दोनों ओर से 400 राउंड गोली चली। बुंडू पुलिस की गाड़ी गोली से क्षतिग्रस्त हो गयी है। घटनास्थल से पुलिस ने 20 ग्रेनेड बरामद किया है। पुलिस घेराबंदी कर चुकी है, लेकिन नक्सली वाहन समेत पहाड़ी की चोटी पर मोरचा संभाले हुए हैं, इसलिए पुलिस आगे नहीं बढ़ पा रही है।ड्ढr कुंदन पाहन गिरोह का हाथ! : इस लूट में नक्सलियों के कुंदन पाहन गिरोह का हाथ है। कुंदन तमाड़ के बारीगढ़ा का रहने वाला है। जांच कर रहे पुलिस अधिकारी इसी नतीजे पर पहुंचे हैं। घटना के तुरंत बाद पुलिस वालों को यह लग रहा था कि इस कांड को अपराधियों ने अंजाम दिया है और इनकी कुल संख्या छह है। इसी भरोसे पर बुंडू थाना प्रभारी मणिभूषण अपराधियों का पीछा करने लगे। मुरपा मोड़ से जैसे ही बारीगढ़ा की ओर आगे बढ़े थे कि नक्सलियों ने अपनी ताकत का अहसास करा दिया। तभी खुलासा हुआ कि लूट को नक्सलियों ने अंजाम दिया है।ड्ढr हफ्ते में दो बार रांची आता है पैसाड्ढr उधर बैंक के सूत्रों ने बताया कि लूटी गयी रकम रुटीन प्रक्रिया के तहत रांची स्थित करंसी चेस्ट में भेजी जा रही थी। सप्ताह में औसतन दो दिन रांची से सिक्योरिटी के लोग रकम ले जाने आते हैं। उनके आने का दिन किसी को पता नहीं होता। एजेंसी भी लगातार बदलती रहती है।ड्ढr गोपनीय होती है प्रक्रिया: बैंक सूत्रों के अनुसार पैसा भेजने की प्रक्रिया बेहद गोपनीय होती है। इसमें बैंक या सिक्योरिटी एजेंसी के किसी कर्मी की साजिश की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता।ड्ढr ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नक्सलियों ने बैंक के 5 करोड़ लूटेघटना स्थल से लौटकर