अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चाडेजा की फरारी में मददगार छह पुलिसकर्मी गिरफ्तार

पुलिस वाले अपराधी के पैसों से गुड़गाँव में होटलबाजी करते रहे और कुख्यात हिस्ट्रीशीटर अजय जडेाा बाथरूम के रास्ते फरार हो गया। इस मामले में एक सब इंस्पेक्टर समेत उन्नाव के छह पुलिस वालों के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज कराकर गिरफ्तार कर लिया गया है।ड्ढr गृह सचिव महेश गुप्ता और एडीाी कानून व्यवस्था बृजलाल ने पत्रकारों को बताया कि झाँसी का रहने वाला अजय जडेाा के खिलाफ 15 मामले चल रहे थे। कुछ समय पहले उसे मेरठ जेल से उन्नाव लाया गया था। उसे 21 व 22 मई को गुड़गाँव व आगरा की अदालतों में पेशी पर पेश किया जाना था। गुड़गाँव की पेशी के बाद इस अपराधी ने पुलिस कर्मियों को नोयडा के एक होटल में अपने साथ ठहराया और खुद फरार हो गया। इस मामले में उन्नाव पुलिस लाइन के सब इंस्पेक्टर शेर सिंह, हेड कांस्टेबिल अमर बहादुर, सिपाही अरविन्द कुमार द्विवेदी, मंगू प्रसाद, नरन्द्र प्रसाद द्विवेदी और सुनील कुमार द्विवेदी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।ड्ढr प्रसव पीड़ा से जूझ रही महिला के उत्पीड़न में पुलिसकर्मियों के खिलाफ मुकदमाड्ढr प्रसव पीड़ा से जूझ रही महिला को बयान के लिए अस्पताल से बाहर ले जाने वाले रामपुर के मिलक थाने के दरोगा ऋषिपाल सिंह और सिपाही अजब सिंह व सरो शर्मा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। इस दर्दनाक हादसे में गर्भवती महिला फातमा खातून का खुले मैदान में प्रसव हो गया था और शिशु की मौत हो गई थी। सभी आरोपित पुलिसकर्मियों को निलंबित भी कर दिया गया है।ड्ढr गृह सचिव महेश गुप्ता और एडीाी कानून व्यवस्था बृजलाल ने बताया कि यह घटना 20 मई की है। इस मामले की शिकायत फातमा के दूसर पति अफााल ने की थी। प्रसव के लिए अस्पताल भर्ती कराए जाने के दौरान ही पहले पति सद्दीक ने उससे झगड़ा किया था। यह मामला मिलक थाने पहुँचा तो दरोगा व सिपाही बयान लेने अस्पताल आ गए। यहाँ महिला चिकित्सक के रोकने के बावजूद पुलिस वाले गर्भवती महिला को जबरन बाहर ले जाने लगे और इसी दौरान उसे प्रसव हो गया। शिशु की मौत के बाद स्थानीय लोगों ने इसका विरोध किया। मामला उच्चाधिकारियों की जानकारी में आया तो सभी दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की गई।ड्ढr पूर्व मंत्री रामआसर पासवान पर मुकदमाड्ढr संतकबीरनगर। पूर्व लघु सिंचाई राज्य मंत्री रामआसर पासवान के खिलाफ भ्रष्टाचार का अभियोग महुली थाने में दर्ज किया गया। उन पर मंत्री पद पर रहते हुए 28 अक्तूबर, 1से 8 मार्च 2002 के बीच अवैध तरीके से करोड़ों की संपत्ति अर्जित करने का आरोप है। सतर्कता अधिष्ठान गोरखपुर के निरीक्षक ने पासवान के खिलाफ जाँच करने के बाद गुरुवार को मुकदमा दर्ज कराया। जाँच का आदेश शासन ने दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चाडेजा की फरारी में मददगार छह पुलिसकर्मी गिरफ्तार