अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

330 छात्रों को मिली डिग्रियां

ेंद्रीय मंत्री रामेश्वर उरांव ने कहा है कि मां-बाप बच्चों को आदर्श से जीने की शिक्षा दें। उन्हें नैतिक रूप से बलवान नागरिक बनायें। उन्होंने कहा कि आज देश आर्थिक विकास की ओर अग्रसर है। पिछले चार साल में जीडीपी में नौ फीसदी वृद्धि हुई है। देश के हर नागिरक को आत्म सम्मान स्वास्थ्य, शिक्षा, उरा, खुशी और स्वच्छ पानी देकर ही ऊंचाई तक पहुंचा जा सकता है। एक्सआइएसएस उच्च स्तरीय प्रोफेशनल तैयार कर रहा है। उरांव ने उक्त बातें 22 मई को एक्सआइएसएस के दीक्षांत समारोह में बतौर मुख्य अतिथि कही।ड्ढr उन्होंने उम्मीद जतायी कि एक्सआइएसएस के छात्रों ने देश में जो प्रतिष्ठा स्थापित की है, उसे छात्र बरकरार रखेंगे। उन्होंने कहा कि टॉपरों में छात्राओं की संख्या ज्यादा होना इस बात का परिचायक है कि महिलाएं किसी क्षेत्र में पीछे नहीं हैं। इससे पहले संस्थान के निदेशक फादर बेनी एक्का ने वार्षिक रिपोर्ट पेश की। कार्यक्रम के अंत में 330 छात्रों को डिग्रियां प्रदान की गयीं। इसके अलावा छह गोल्ड मेडल और पांच सिल्वर मेडल दिये गये। अतिथियों का स्वागत जीबी अध्यक्ष फादर रांीत पास्कल टोप्पो ने किया। कार्यक्रम का संचालन प्रो आरके अग्रवाल ने किया। इस अवसर पर फादर डीब्रावर, फादर फ्रेंकेन, फादर डॉ निकोलस टेटे, एआर शॉक, प्रो एआर बोदरा, प्रो एमएच अंसारी एवं रोशनलाल भाटिया उपस्थित थे।ड्ढr 330 में 25ो मिला प्लेसमेंट एक्सआइएसएस के डिग्री पानेवाले 330 छात्रों में 25ो प्लेसमेंट मिल चुका है। पर्सनल मैनेजमेंट ब्रांच में 75 छात्रों ने डिग्रियां पायी, इनमें 57 को प्लेसमेंट मिला है। रूरल डेवलपमेंट के डिग्री पाने सभी 75 छात्रों को प्लेसमेंट मिल चुका है। इंफॉरमेशन मैनेजमेंट के 60 में 40, मार्केटिंग के 60 में 54 एवं फाइनांस के 60 छात्रों में से 33 को प्लेसमेंट मिल चुका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 330 छात्रों को मिली डिग्रियां