DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत ने किया पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल परीक्षण

भारत ने शुक्रवार को सतह से सतह मार करने वाली मध्यम रेंज के प्रक्षेपास्त्र पृथ्वी-2 का सफलतापूर्वक परीक्षण किया। उड़ीसा में बालासोर से लगभग 15 किलोमीटर दूर चांदीपुर पर एकीकृत परीक्षण रेंज (आईटीआर) से पृथ्वी का परीक्षण सुबह साढ़े दस बजे किया गया। आईटीआर सूत्रों के अनुसार इस प्रक्षेपास्त्र को रक्षा अनुसंधान विकास संगठन (डीआरडीआे) ने विकसित किया है। 200 से 250 के दायरे में मार करने वाले प्रक्षेपास्त्र को युद्ध में अतिप्रभावशाली इस्तेमाल के लिए बनाया गया है। सूत्रों ने बताया कि इस प्रक्षेपास्त्र की मारक क्षमता 250 किलोमीटर है और इसमें मुखास्त्र ढोने की क्षमता 700 किलोग्राम है जिसे एक हजार किलाग्राम तक बढ़ाया जा सकता है। पृथ्वी प्रक्षेपास्त्र का पहला परीक्षण आंध्र प्रदेश में श्रीहरिकोटा के प्रक्षेपण केन्द्र से 22 फरवरी 1ो किया गया था। तब से आईटीआर पर कई परीक्षण किए जा चुके हैं। सूत्रों ने बताया कि पृथ्वी उन पांच प्रक्षेपास्त्रों में से एक है जो विकास के कई स्तरों से गुजरा है। उन्होंने बताया कि यह प्रक्षेपास्त्र स्वदेशी तकनीक से निर्मित उपग्रह प्रक्षेपण वाहन (एसएलवी-3) का उन्नत संस्करण है। उन्होंने बताया कि इसके लिए तरल ईंधन का प्रयोग किया गया है और इसके सभी उपकरण देश में ही बने हैं। प्रक्षेपास्त्र के परीक्षण के दौरान डीआरडीआे के कई वैज्ञानिक और आईटीआर के अधिकारी मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भारत ने किया ‘पृथ्वी-2’ का सफल परीक्षण