DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शेयर बाजारों कचचो लगातार दूसरे दिन तगड़ा झटकचचा

देश के शेयर बाजारों में चौतरफा बिकवाली का दबाव रहने से आज लगातार दूसरे दिन तगड़ी गिरावट दर्ज की गई। बम्बई शेयर बाजार (बीएसई) का सेंसेक्स 257.47 अंक तथा नेशनल स्टाक एक्सचेंज (एनएसई) के निफ्टी ने 78.0 अंक की डुबकी लगाई। बाजार सूत्रों का कहना है कि सरकार के तमाम उपायों के बावजूद मंहगाई के दर पर कोई खास असर नहीं दिखने और एशिया तथा यूरोप के अधिकांश शेयर बाजारों में गिरावट ने बिकवाली का बढ़ावा दिया। सरकार की तरफ से जारी आंकडों के मुताबिक दस मई को समाप्त हुए सप्ताह में मंहगाई की दर पहले के 7.83 प्रतिशत की तुलना में 0.01 प्रतिशत की मामूली गिरावट से 7.82 प्रतिशत रह गई, किंतु 15 मार्च के लिए अंतिम आंकडों में यह आठ प्रतिशत से ऊपर निकल गई है। इसे देखते हुए विशलेषकों की चिंताएं बढ़ गई हैं। बीएसई में सत्र की शुरुआत में बाजार मजबूत लग रहा था. किंतु कारोबार के आगे बढने के साथ ही पकड़ ढीली पड़ने लगी। सत्र की शुरुआत में सेंसेक्स कल के 1607.11 अंक की तुलना में 160 अंक पर खुला और ऊंचे में 17054.34 अंक तक चढ़ने के बाद 16626.11 अंक तक गिरने के बाद समाप्ति पर कुल 257.47 अंक अर्थात 1.52 प्रतिशत के नुकसान से 1664अंक रह गया। मिडकैप और स्मालकैप में क्रमश: 112.14 तथा 146.41 अंक की गिरावट रही। धातु कंपनियों के सूचकांक को 357.15 अंक का झटका लगा। आयल एंड गैस सूचकांक 241.28 अंक गिरा। रियलटी 183.20 तथा बैंकेक्स में 143.73 अंक निकल गए।ड्ढr एनएसई का निफ्टी 78.0 अंक अर्थात 1.57 अंक नुकसान से 4अंक रह गया। एनएसई का निफ्टी मिडकैप 1.88 प्रतिशत और निफ्टी जूनियर में 1.8प्रतिशत का नुकसान हुआ।ड्ढr विश्लेषकों का मानना है कि कच्चे तेल की रिकार्ड कीमतों के बीच डीजल व पैट्रोल के दाम बढ़ाने की चर्चाओं से आने वाले सप्ताहों में मंहगाई और बढ़ सकती है। एशियाई शेयर बाजारों में चीन का शंघाई कम्पोजिट सूचकांक 0.36 अंक और हांगकांग का हैंगसैंग 1.3 प्रतिशत नीचे आए। जापान का निक्केई 0.2 प्रतिशत ऊपर रहा।ड्ढr सत्र के दौरान बीएसई में कुल 270 कंपनियों के शेयरों में कामकाज हुआ। इसमें से 68.प्रतिशत अर्थात 1ंपनियों के शेयर टूटे जबकि 7अर्थात 28.4में फायदा हुआ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: शेयर बाजारों कचचो लगातार दूसरे दिन तगड़ा झटकचचा