DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिर भड़के गुर्जर फायरिंग,12 मर

आरक्षण की माँग का लकर शुक्रवार को जिल क बयाना उपखंड मं हथियार बंद गुर्जरां और सुरक्षाबलां में जबरदस्त संघर्ष हुआ। पुलिस फायिरग में 11 लागां की मौत हा गई। आरएसी के एक हेड कांस्टेबल की भी मौत हुई है। उपद्रवियां न पुलिस-प्रशसन क आधा दर्जन वाहनां का भी फूँक दिया। वहीं, पुलिस पर आंदालनकारियां क कुछ शव गायब करन क आराप भी लगे हैं। हालात देखते हुए केन्द्र सरकार ने आरएएफ और सीआरपीएफ के 700 जवान भरतपुर भेजे हैं और सेना की दस टुकड़ियाँ बुलाई गई हैं। सरकार ने फायरिंग की न्यायिक जाँच के आदेश दे दिए हैं।ड्ढr गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति क संयाजक कर्नल किराड़ी सिंह बैंसला के ‘रल रोको’ आंदालन की घाषणा क बाद शुक्रवार को गुर्जर समाज क हजारां हथियारबंद लोग दिल्ली-मुम्बई रल मार्ग क बयाना उपखंड क डुमरिया स्टशन क पास दस किमी. क्षत्र मं रल पटरियाँ उखाड़ रहे थे। चेतावनी देने पर भी वे नहीं माने तो पुलिस न आँसू गैस के गोले दागे, फिर फायरिंग की। कांस्टेबल की मृत्यु आंदालनकारियां द्वारा धारधार हथियारां स चाट पहुँचान पर हुई।ड्ढr दुकानों पर पड़ा ताला : घटना से समूच बयाना उपखंड तथा डुमरिया रलव स्टशन क आसपास क क्षत्रां मं भय का माहौल है। बयाना के बाजार बंद हो गए। दिल्ली-मुम्बई रल मार्ग पूरी तरह स ठप रहा।ड्ढr एक न चली जवानों की : राज्य सरकार ने सुरक्षा बलां की लगभग 15 कम्पनियाँ तैनात की थीं, लकिन आंदालनकारियां क आग उनकी एक न चली। पता चला है कि आंदालनकारियां न कई किलामीटर रलमार्ग पर जगह-जगह रुकावट डालन क अलावा आग भी लगा दी। सूत्रां क अनुसार हालात स निपटन क लिए सना की मदद ली जा सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: फिर भड़के गुर्जर फायरिंग,12 मर