अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बारा-करछना संयंत्रों के लिए बोली फिर

राज्य सरकार ने इलाहाबाद के बारा व करछना में लगने वाली बिजली परियोजनाओं की बििडग प्रक्रिया फिर से किए जाने का फैसला किया है। पावर कार्पोरशन ने निजी कंपनी लैन्को को दोनों परियोजनाएँ सौंपने का पहले ही फैसला लिया था क्योंकि प्रतिस्पर्धात्मक बििडग में उसकी दरं सबसे कम थीं। राज्य मंत्रिपरिषद की शुक्रवार को हुई बैठक में परियोजनाओं से सम्बंधित रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल के प्रावधानों के तहत नए सिर से बिडिंग करवाने का फैसला लिया गया। सूत्रों के मुताबिक सरकार ने लैन्को की दी गईं दरों को ज्यादा मानते हुए नए सिर से बििडग का फैसला किया है। इससे पहले ऊरा टास्क फोर्स कार्पोरशन के फैसले को उलटते हुए फिर से बििडग की पेशकश कर चुका था।ड्ढr नई प्रक्रिया के तहत दोबारा बिड आमंत्रित नहीं की जाएगी बल्कि जिन नौ कंपनियों ने पहले आवेदन किया था उनके बीच ही दोबारा बििडग होगी। दोनों परियोजनाओं के लिए कुल नौ कंपनियों ने आवेदन किया था। इनमें निजी कंपनी लैन्को के अलावा रिलायंस पॉवर, टॉरन्ट, एल एंड टी, जीएमआर एनर्जी, जिंदल स्टील एंड पॉवर, जेएसडब्लू एनर्जी व सीईएससी के अलावा सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी एनटीपीसी शामिल थीं।ड्ढr 10 मेगावाट की बारा व 1320 मेगावाट की करछना परियोजना के लिए ग्यारह अप्रैल को टेण्डर खोले गए तो दोनों परियोजनाओं के लिए लैन्को की दरं सबसे कम निकली थीं जबकि रिलायंस दूसर नंबर पर था।ड्ढr लैन्को ने बारा के लिए पहले साल की दर 1.पए प्रति यूनिट और उसके बाद वेरिएवल दर 2.88 रुपए प्रति यूनिट और करछना के लिए पहले साल की दर 1.74 व वेरिएवल दर 2.83 रुपए प्रति यूनिट दी थी। कार्पोरशन ने दरं सबसे कम होने के मद्देनजर लैन्को को परियोजना सौंपने का फैसला लिया था जिसे मंजूरी के लिए बीते दिनों ऊरा टास्क फोर्स की बैठक में रखा गया था लेकिन टास्क फोर्स ने दरों को ज्यादा मानते हुए उसे कम किए जाने का निर्देश दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बारा-करछना संयंत्रों के लिए बोली फिर