अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्कूल प्रशासन आग से सुरक्षा के एहतियाती उपाय करें

ुम्बकोनम कांड से सबक लेते हुए राज्य सरकार ने यहां के स्कूलों को भी आग से सुरक्षा के ऐहतियाती उपाय करने को कहा है। तमिलनाडू के कुम्बकोनम के एक स्कूल में हुई अगलगी में सैकड़ों बच्चों की मौत हो गई थी। इस बाबत अदालत में दायर जनहित याचिका पर केन्द्र सरकार ने स्कूलों को जरूरी कदम उठाने को कहा है।ड्ढr ड्ढr इसके मद्देनजर राज्य के प्रधान शिक्षा सचिव अंजनी कुमार सिंह द्वारा जारी निर्देश में कहा गया है कि अब स्कूलों में अगलगी की घटनाओं के लिए प्रिंसिपल, डीईओ और डीएसई जिम्मेदार होंगे। इसकी जांच खुद डीएम करंगे और जिसकी भी असावधानी साबित होगी उसे दंडित किया जाएगा। ऐसी घटनाओं से बचाव के उपाय के लिए फिलहाल सर्वशिक्षा अभियान में पैसा उपलब्ध है। इससे स्कूल में टंकी बनाकर पर्याप्त मात्रा में पानी का इंतजाम रखने, हर कमर में दो दरवाजे और खिड़कियों का निर्माण कराने को कहा गया है। दोमंजिले भवन वाले स्कूलों में अब दो सीढ़ियां बनाना अनिवार्य होगा। स्कूलों में इस तरह के सुरक्षा उपायों के लिए बीईपीसी के निदेशक ने भी सभी डीएसई और जिला कार्यक्रम समन्वयकों को पत्र लिखा है। राज्य सरकार द्वारा अगलगी की घटना में मर छात्र के लिए 1 लाख, 40 से 75 फीसदी विकलांगता की स्थिति में 35 हजार रुपए एवं 75 फीसदी से अधिक विकलांगता की स्थिति में 50 हजार रुपए रुपए बतौर मुआवजा देने का नियम है। हाल में शिक्षा विभाग में हुई जिला शिक्षा अधीक्षकों की राज्यस्तरीय बैठक में उप निदेशक मुखदेव सिंह ने सभी डीएसई को इस बार में पत्र की प्रति सौंपी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: स्कूल प्रशासन आग से सुरक्षा के एहतियाती उपाय करें